Monday, March 28, 2022

ख़लिश

 दु:ख सदा ही मुखर रहे,

खुशियों के भी राज मे,

फिर सिमट गये ख्वाब सारे,

उम्र की दराज़ मे।


No comments:

Post a Comment

मिथ्या

सनक किस बात की,  जुनून किस बात का? पछतावे की गुंजाइश न हो,  शुकून किस बात का?