Monday, January 18, 2010

आज का जोक- ए.टी.एम् मशीन !

हम हिन्दुस्तानियों के लिए शायद यह खबर बहुत मामूली सी थी , इसलिए किसी ने इसे तबज्जो देना तो दूर, इस पर गौर करना भी मुनासिब नहीं समझा !

और खबर यह थी कि देश की राजधानी से सटे ग्रेटर नोएडा में अपने देश के कुछ भूखे-नंगे, आई-सी-आई-सी-आई बैंक की ए.टी.एम् मशीन ही ले उड़े, जिसके अन्दर बताया जाता है कि ३२ लाख का कैश था ! हा-हा-हा-हा-हा-हा-हा-हा-हा-हा.....
हैं न जोक मजेदार ! मुझे हंसी उन भूखे-नंगो पर नहीं, वरन बहनजी और मौन सिंह जी के सुशासन पर आ रही है ! मेरा भारत महान !

25 comments:

  1. बहुत सुंदर-सुशासन मे कभी ऐसा भी होता है।

    ReplyDelete
  2. ऐसी ही एक खबर थोड़े दिन पहले हमने बतायी थी जब चोर जबलपुर से एक ए.टी.एम. ले उड़े थे।

    ReplyDelete
  3. माया के राज में माया उड़ाना कोई अपराध नही है ........ बस माय उड़ाने वाले माया का ख्याल रखें .........

    ReplyDelete
  4. ए.टी.एम मशीन उड़ाने का अब जैसा धंधा चल पड़ा है . जबलपुर से भी चोरो ने एक ए.टी.एम मशीन चोरी कर उड़ा दी थी .. अभी हाल में पकडे गए चोरो में एक मंत्री का भतीजा था ....

    ReplyDelete
  5. बढिया जानकारी। माया और मनमोहन वाह रे जोड़ी?

    ReplyDelete
  6. कहीं कुछ और ही तो बात नहीं?

    हम ही चोर हम ही सिपाही,
    तिजोरी तुम्हारी, माया हमारी। :)

    ReplyDelete
  7. एक जोक है कि अगर बहिन जी अगर बहन हैं तो कांशीराम क्या ?

    जवाब है:--- जीजा


    यह जोक आज से दस साल पहले बहुत मशहूर हुआ था.... वैसे बहिन जी... के राज में बहुत कुछ हो रहा है... जिस पर लोगों ने आँखों पर पट्टी चढ़ा रखी है.....

    महान के ऊपर एक और बहुत धांसू जोक है.... उसे मेल करूँगा आपको....

    ReplyDelete
  8. लखनऊ से बाहर था.... इसीलिए लेट आया ....

    ReplyDelete
  9. इससे माया की माया मे कौन सी कमी आजायेगी?:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  10. सतत सजगता का परिणाम

    ReplyDelete
  11. धन्य हुए ऐसी खबर सुन कर!!!

    ReplyDelete
  12. सही है, बूटी न मिले तो पर्वत ही ले चलो।

    ReplyDelete
  13. Internet ka jamana hai. abhi tak bank ki website ko hijack karte rahe hai, ab bank ke bachchon (ATM)ko kidnap karte hai//ha..ha..ha

    ReplyDelete
  14. समय बच गया तोड़ने का

    ReplyDelete
  15. वाह बहुत बढ़िया!

    ReplyDelete
  16. sahi hai booti na sahi poora pahad hi sahi

    ReplyDelete
  17. अरे बाबा...ये गरीब दुविधा में थे...
    राम तो मिले नहीं सो 'माया' ले उड़े...:):)

    ReplyDelete
  18. sir I would like to thank you for your reply to Aziz burney on 02 jan 10. did you notice that how secular he is and how he is mis guiding the youth . we must definately do something to reply such people.
    thanks
    Aaditya
    Aaditya.rathore18@gmail.com

    ReplyDelete
  19. Dear Adityaji, Thank you very much. Yes, and its a duty of every citizen, youth in particular to give befitting reply to those black sheeps.

    ReplyDelete