Saturday, May 8, 2010

एक गजल- सहमे गुल



तज पुरा-रीतियां ज़माना निकला,नए-नए अभियानों पर,
बदल गई है अब दुनिया, सभ्यता के दरमियानों पर ॥

न स्वयम्बर की दरकार रही 
अब, न युवराजों की जंग,
जंक खाती जा रही तलवारें भी ,पडे-पडे मयानों पर ॥

क्या पूनम,क्या अमावस,क्या शुक्ल क्या कृष्ण पक्ष,
सूरज ग्रहण लगा रहे है नित,चांद के आशियानों पर ॥


उत्कंठा के चरम,उजाड़ रहा खुद माली ही गुलशन को ,
गुल सहमा ऐतवार करे कैसे,गुलशन के सयानों पर॥

काबिले भरोसा रहा न कोई,'परचेत' यक़ी करे किस पर,
यहां लोग भरोसा करते भी है तो गिरगिट के बयानों पर ॥

17 comments:

  1. waise mujhe bhi bahut dukh hai jo kuch bhi hua...lekin agar ye hamari beti ne kiya hota to kya karte...bas ek masoom sa prashn hai...

    ReplyDelete
  2. Dukhad ghatnaa hai ......

    सबूत मिटा डाले उसी ने, जिस पर दारोमदार था ।
    मुकदमा दर्ज हुआ भी तो, गिरगिट के बयानों पर ॥

    antim lines bahut sashakt hai

    ReplyDelete
  3. सबूत मिटा डाले उसी ने, जिस पर दारोमदार था ।
    मुकदमा दर्ज हुआ भी तो, गिरगिट के बयानों पर. satay hai.nice

    ReplyDelete
  4. अजी हो सकता है किसी ने कुछ भी ना किया हो उसी लडकी ने आत्महत्या की हो , मां बाप के डांटने के बाद या किसी अन्य कारण से.बिना सबुत क्यो किसी को दोषी कहे

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर रचना है ... खास कर ये पंक्तियाँ बहुत अच्छी लगी
    सबूत मिटा डाले उसी ने, जिस पर दारोमदार था ।
    मुकदमा दर्ज हुआ भी तो, गिरगिट के बयानों पर ॥

    ReplyDelete
  6. न स्वयम्बर की दरकार रही, न युवराजों की जंग ।
    जंक खाती जा रही तलवारें ,पडे-पडे मयानों पर ॥

    विसकुल सही बात कही है आपने

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सशक्त और सटीक अभिव्यक्ति गोदियाल जी । और अंतिम पंक्तियां तो कहर ढा रही हैं

    ReplyDelete
  8. पता नहीं, लेकिन दुखद तो अवश्य है..

    ReplyDelete
  9. अच्छी गजल ,दुखद है सब कुछ ।

    और हां सुमन जी NICE के अलावा भी कुछ लिखते हैं ।

    ReplyDelete
  10. सुन्दर रचना!
    मातृ-दिवस की बहुत-बहुत बधाई!
    ममतामयी माँ को प्रणाम!

    ReplyDelete
  11. सबूत मिटा डाले उसी ने, जिस पर दारोमदार था ।
    मुकदमा दर्ज हुआ भी तो, गिरगिट के बयानों पर ॥


    वेदनायुक्त ग़ज़ल..

    ReplyDelete
  12. मुकदमा दर्ज हुआ भी तो, गिरगिट के बयानों पर ..

    देश का माहॉल आज ऐसा ही है .... देश का सत्यानाश कर रहे हैं ये राजनेता ...

    ReplyDelete
  13. बेहद सटीकता से बात कह दी आपने.

    रामराम.

    ReplyDelete
  14. बहुत ही उम्दा और सटीक सोच से निकली अभिव्यक्ति /

    ReplyDelete

ब्लॉगिंग दिवस !

जब मालूम हुआ तो कुछ ऐसे करवट बदली, जिंदगी उबाऊ ने, शुरू किया नश्वर में स्वर भरना, सभी ब्लॉगर बहिण, भाऊ ने,  निष्क्रिय,सक्रिय सब ...