Thursday, September 17, 2015

शुद्धात्मा !

आज की भोर पर 
मज़हबी नजर आया 
तमाम जग सा, 
एक तो श्री गणेश चतुर्थी, 
उसपर विश्वकर्मा दिवस सा,
कुलबुलाहट सी जगी दिल में
 शुद्ध-निर्मल होने की,
धो डाला सब गंगाजल से,     
मोबाइल फोन को भी नहीं बख्शा।  

Happy Ganesh Chaturthi & V.Karma Day !   

   

2 comments:

  1. श्री गणेश जी ,जिस तत्व से रचे हैं उसे धोना तो ठीक ...पर मोबाइल ?...शुद्धता तो उस पर बोलनेवालों की .....

    ReplyDelete
    Replies
    1. Ha-ha.. Pratibha Ji, AAJkal Jubaan kaun dekhtaa hai sab Mobile ko dekhte hai :-)

      Delete

दिल्ली/एनसीआर, क्या चिकित्सा मर्ज का मूल मेदांता सरीखे अस्पताल नहीं ?

  चूँकि दिल्ली के मैक्स और हरियाणा  के  फोर्टिस अस्पताल का मुद्दा गरम है, इसलिए इस प्रसंग को उठाना जायज समझता हूँ। पिछले कुछ दशकों से अधिक...