Sunday, February 2, 2020

कुछ अंश मेरी काव्यपुस्तक "तहकी़कात जारी रहेगी" से.....

1)

No comments:

Post a Comment

कसमरा

मर्ज़ रिवाजों पे, कोरोना वायरसों का सख्त पहरा हैं, एकांत-ए-लॉकडाउन मे, दर्द का रिश्ता, बहुत गहरा है, थर्मोमीटर-गन से ही झलक जाती है जग की...