Friday, May 28, 2010

हकीकत-ए-शहंशाह !

आज सुबह मेल चेक कर रहा था तो इस मेल पर भी नजर गई ! सोचा, थोडा इसमें तोड़-फोड़कर आपका भी मनोरजन किया जाये ! तो लीजिये, परिवार संग (सिर्फ पति-पत्नी ) मिल-बैठकर एन्जॉय कीजिये ;

हो सकता है कि आप दुनिया के राजा हों !



ये भी हो सकता है कि आप दुनिया में सबसे खतरनाक किस्म के प्राणी हों !



या दुनिया वालों के सामने जबरदस्ती शेर बनने की कोशिश करते हों !



होसकता है कि आप आजाद किस्म के मनमौजी हों !




हो सकता है कि आप दूसरों को अपनी मुट्ठी में रख उनपर हुक्म चलाते हो !




हो सकता है कि दूसरे लोग आपको बहुत प्यार करते हों !




ये भी संभव है कि आप सज्जन किस्म के हों !




या फिर एक खतरनाक हत्यारे हो !



लेकिन सच्चाई यही है कि
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
जब आप अपने घर में होते है तो ....
.
.
.
.
.
..
.
.
.
. .
..
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
बीबी-बीबी होती है



...Does not matter Who the Hell you are ...


















18 comments:

  1. इसमें भी कोई दो राय है क्या?

    ReplyDelete
  2. एक बेहद उम्दा और विचारणीय पोस्ट !
    जीवन का सत्य प्रदर्शित करती पोस्ट !!
    बधाई और आभार !!

    ReplyDelete
  3. बिलकुल ठीक कहा साहब आपने
    अब तो शादी को एक साल हो गया हमारी भी .
    और अगर शादी ना होती तो सायद ये सब न जान पाते .

    गुरुदास्मान जी का एक गीत याद आता हैं

    "थोडा थोडा हसना जरुर चाहिदा "
    उसमे उन्होंने बीबी की महिमा का गुणगान पूरे एक पहरे में किया हुआ हैं

    "की घर दी लड़ाई डा जवाब ना कोई
    बीबी आगे बंदा नवाब ना कोई"


    गोदियाल साहब पता नही आपने सुना भी हैं या नहीं

    ReplyDelete
  4. सुन्दर।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    ReplyDelete
  5. दुनिया के आगे शेर, बीवी के आगे ढेर!

    ReplyDelete
  6. गुरुदेव ....आपनी अभी शादी नहीं हुई ,,,,फिलहाल तो दूसरो की वीवी से ही डरते है ...डरने में ही भलाई है ,,,जिस दिन कुछ बोले डब्बा गोल :)

    ReplyDelete
  7. अरे आप भी ना घर की बात थोडे सब को बताते है

    ReplyDelete
  8. बेहद उम्दा और विचारणीय पोस्ट .शत प्रतिशत सच

    ReplyDelete
  9. काहे पोल खोल रहे हो गोदियाल जी!

    ReplyDelete
  10. :) :) ...बहुत बढ़िया...

    ReplyDelete
  11. क्या बात है गोदियाल जी। मजा आ गया।

    ReplyDelete
  12. सभी शेरों का घर में यही हाल होता है ।
    अच्छे लगे फोटो।

    ReplyDelete
  13. गोदियाल साहब, काहे इज्जत का फ़लूदा बना रहे हो शेर सिंह का?
    मास्टर जी ने पूछा था कि बताओ शेर से तो सब डरते हैं, शेर भी किसी से डरता है?
    जवाब यही आया था, "शेरनी से।"

    आनंदम आनंदम॥

    आभार।

    ReplyDelete
  14. आपने शेरोँ की सीक्रेसी आउट कर दी . मजेदार ।

    ReplyDelete

ब्लॉगिंग दिवस !

जब मालूम हुआ तो कुछ ऐसे करवट बदली, जिंदगी उबाऊ ने, शुरू किया नश्वर में स्वर भरना, सभी ब्लॉगर बहिण, भाऊ ने,  निष्क्रिय,सक्रिय सब ...