Monday, May 24, 2010

यूं भी बावफा होते है लोग !


ये दिल निसार करके जाना 
कि राहे जफा होते है लोग,
सच में, हमें मालूम न था 

कि यूं भी बावफा होते है लोग !

सोचते थे कि नेमत है 

खुदा की ये जज्बा,
इल्म न था कि 
वफ़ा की कस्मे खाने वाले, 
इस कदर बेवफा होते है लोग !

दिल और आँख का 

ऐसा आपसी 
देखा जो समन्वय 'परचेत',
नजर देखे, दिल शकूं पाए, 

मनीषी ऐसे ही नफ़ा होते है लोग !

34 comments:

  1. वफा, खफा, जफा, दफा को बहुत ही करीने से सजाया है!

    बहुत ही सुन्दर रचना है!

    ReplyDelete
  2. आग लगा जाते है घरों में, दनल से नफरत करने वालों के,
    बेवक्त नीर बहाने वाले, उस वक्त ही क्यों दफा होते है लोग !

    इंसान के दोगले चरित्र को उजागर करती बात, बहुत बढ़िया रचना है

    ReplyDelete
  3. निसार राहे वफ़ा करके जाना कि राहे जफा होते है लोग,
    सच में, हमें मालूम न था कि यूं भी खफा होते है लोग !
    nice

    ReplyDelete
  4. एक किरदारे-बेकसी है मां
    ज़िन्दगी भर मगर हंसी है मां


    दिल है ख़ुश्बू है रौशनी है मां
    अपने बच्चों की ज़िन्दगी है मां


    ख़ाक जन्नत है इसके क़दमों की
    सोच फिर कितनी क़ीमती है मां
    http://blogvani.com/blogs/blog/15882

    ReplyDelete
  5. बहुत गहराई लिए अल्फाज हैं | बहुत खूब |

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सार्थक प्रस्तुती / दोगले ही दोगले हैं आज तो ,लेकिन सत्य ,न्याय और ईमानदारी पे चलने वाले को भी आज दोगला बोला जाने लगा है ,क्योकि वह अपना पराया देखे वगैर किसी की भी गलती को उसे बताता है ऐसे में उसके अपने उसे दोगला कहते हैं / निश्चय ही यह शर्मनाक है / हमारे ख्याल से इंसानियत की राह में किसी का साथ छोड़ देना ही सबसे बड़ी बेवफाई और दोगलापन है /

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब ,बहुत बढ़िया रचना है|

    ReplyDelete
  8. अति सुन्दर रचान

    ReplyDelete
  9. हमें मालूम न था कि यूं भी खफा होते है लोग !
    खफा किस बात पर हो जायेंगे लोग क्या पता !!
    सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर रचना है ...
    इंसान के चरित्र पर सही कटाक्ष !

    ReplyDelete
  11. बहुत खुबसुरत लगी आप की यह रचना. धन्यवाद

    ReplyDelete
  12. वाह वाह!! बहुत खूब!!

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर... वफा-जफा का संयोग..

    ReplyDelete
  14. waah
    दिल और आँख के रिश्तों की, अजब दास्तां हमने भी देखी,
    नजर देखे, दिल शकूं पाए,समझदार यूं भी नफ़ा होते है लोग !
    bahut khoob

    ReplyDelete
  15. वाह !.......खूब लिखा है ....

    ReplyDelete
  16. आजकल तो आपकी नज्में.... कहर ढहा रही हैं..... बहुत ही गहराई लिए हुए सुंदर रचना....

    ReplyDelete
  17. बहुत ही लाजवाब रचना.

    रामराम.

    ReplyDelete
  18. नजर देखे, दिल शकूं
    wah...................wah.........

    ReplyDelete
  19. निसार राहे वफ़ा करके जाना कि राहे जफा होते है लोग,
    सच में, हमें मालूम न था कि यूं भी खफा होते है लोग

    बहुत खूबसूरत ग़ज़ल...

    ReplyDelete
  20. achhi ghazal hai godiyal saab ...

    waise log .. "wafa" nahi hote..ta to .. "baawafa" hote hain ya "wafadar" hote hain ...qafiye ke lihaaz se baawafa hona chahiye...

    ReplyDelete
  21. ग़ज़ल के माध्यम से आपने जो कुछ भी उजागर किया है, इसके लिए बहुत शुक्रिया !!

    ReplyDelete
  22. @ स्वप्निल कुमार 'आतिश'जी, आपका शुक्रिया , आपने बहुत उत्तम बात कही ! और आपके सुझाव के हिसाब से उसे सुधार दिया है!

    ReplyDelete
  23. निसार राहे वफ़ा करके जाना कि राहे जफा होते है लोग,
    सच में, हमें मालूम न था कि यूं भी खफा होते है लोग !
    ...vah...vah...vah.

    ReplyDelete
  24. प्यार के खातिर सबकुछ न्योछावर करने का दम भरने वाले,
    खुद का भरोसा बेच दे सरे राह,यूं भी बावफा होते है लोग!

    Vaah .. kya kamaal ki baat .. bahut imaandaari se likha hai ... lajawaab ..

    ReplyDelete
  25. ji bahut badhiya......
    आग लगा जाते है घरों में, दनल से नफरत करने वालों के,
    बेवक्त नीर बहाने वाले, उस वक्त ही क्यों दफा होते है लोग !
    kunwar ji,

    ReplyDelete
  26. gr8!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  27. बहुत ही अच्छी रचना गोदियाल साहब।

    ReplyDelete
  28. वाह गोदियाल जी । बहुत सुन्दर रचना लिखी है आज। बधाई।

    ReplyDelete
  29. ....अच्छी रचना गोदियाल साहब।

    ReplyDelete
  30. Maaf kijiyga kai dino busy hone ke kaaran blog par nahi aa skaa

    ReplyDelete
  31. प्रभावशाली सुन्दर रचना..

    ReplyDelete

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना !

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना ! (New concept of 'seating arrangement' in Metro coaches ! ) ...