Monday, July 4, 2011

कार्टून कुछ बोलता है -मंदिरों के खजानों में सरकारी सेंध !

14 comments:

  1. kiya baat hai ! bhai ji Mazaaa Aaa Giya ...steek:ha ha ha :-)

    ReplyDelete
  2. हाहाहाहा सटीक।

    ReplyDelete
  3. इनके भक्तों का भी उद्धार हो।

    ReplyDelete
  4. अब तो यहीं बहुत काम मिल गया है भाई ।
    स्विस बैंक तो फीके लग रहे हैं ।

    ReplyDelete
  5. बहुअयामी प्रतिभा के धनी है आप गोदियाल जी, यह कार्टून भी उसी की बानगी है.

    ReplyDelete
  6. हा हा हा ये न खुलेगा सर । इनके महंत ससुरे सब के सब एक से एक महाठग जो ठहरे

    ReplyDelete
  7. इसी प्रयास में तो लगे हैं अन्ना साहब और बाबा साहब :)

    ReplyDelete
  8. वाह .. गज़ब .. मज़ा आ गया ...

    ReplyDelete
  9. आदरणीय गोदियाल जी
    नमस्कार !
    ....सटीक आनंद आया

    ReplyDelete
  10. अस्वस्थता के कारण करीब 20 दिनों से ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ,

    ReplyDelete
  11. बिलकुल सटीक ... अब सरकार सभी खजाने ... मंदिरों के तहखाने तुडवा के ही दम लेगी ...

    ReplyDelete

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना !

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना ! (New concept of 'seating arrangement' in Metro coaches ! ) ...