Monday, March 28, 2011

कुरुर पुनरावृति !





शर्मो -हया गायब हुई,

आंख,नाक,गालों से,

गौरवान्वित हो रहा,

अब देश घोटालो से ।


विदुर ने संभाला है,

अभिनय शकुनि का,

हस्तिनापुर परेशां है,

गांधारी की चालों से ॥


द्यूत क्रीड़ा चल रही,

घर,दरवार,जेल मे,

पांसे खुद जुट गए,

शह-मात के खेल मे ।


इन्द्र-प्रस्थ पटा पडा,

कुटिल दलालों से,

हस्तिनापुर परेशां है,

गांधारी की चालों से ॥


एकलव्य का अंगूठा,

बहुमूल्य हो गया,

सुदूर दक्षिण का इक 
रंक-ए-राजा तुल्य हो गया ।


यक्ष भी हैरान है,

करुणाजनित जालों से,

हस्तिनापुर परेशां है,

गांधारी की चालों से ॥


गरीब-प्रजा से भी,

लगान जुटाने के बाद,

सफ़ाई के नाम पे,

अरबों लुटाने के बाद ।


गंगा-जमुना मजबूर है,

बहने को नालों से,

हस्तिनापुर परेशां है,

गांधारी की चालों से ॥


युवराज दुर्योधन है,

ताक मे सिंहासन के,

चीरहरण को आतुर है,

हाथ दू:शासन के ।


बेइज्जत हो रही द्रोपदी,

खाप-चौपालों से,

हस्तिनापुर परेशां है,

गांधारी की चालों से ॥


कहीं ढूढना न फ़िर,

अर्जुन-कान्हा पड़े,

इतिहास महाभारत का

न कहीं दुहराना पड़े।


कुरुक्षेत्र लहुलुहान न हो,

बाण-भालों से,

हस्तिनापुर परेशां है,

गांधारी की चालों से ॥


छवि गुगुल से साभार

18 comments:

  1. vaaah......bahut badhiya kavita......vyavastha ki pol khol di hai......

    ReplyDelete
  2. जब अत्याचार,अनाचार की पराकाष्ठा होगी,ढोंग-पाखण्ड का प्रचार होगा तो महाभारत के लिए भी तैयार रहना ही होगा.

    ReplyDelete
  3. छिन्न भिन्न कर डाला देश का स्थायित्व।

    ReplyDelete
  4. बहुत सार्थक चिंतन ....

    एक गुज़ारिश .... विधुर कि जगह विदुर कर लें ...

    बहुत अच्छी लगी आपकी यह रचना

    ReplyDelete
  5. त्रुटि की तरफ ध्यान दिलाने के लिए आपका आभार संगीता जी ! और सच कहूँ तो मुझे ऐसी सार्थक टिप्पणिया बहुत पसंद है !

    ReplyDelete
  6. वाह! बहुत सुन्दर और अलग अंदाज!

    ReplyDelete
  7. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 29 -03 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  8. हस्तिनापुर परेशां है,

    गांधारी की चालों से ॥


    पर बात अब गंधार से आगे की निकल रही है :)

    ReplyDelete
  9. देश त्रस्त, अफसर-नेता-व्यापारी मस्त..

    ReplyDelete
  10. इस रचना की चर्चा सब दूर होनी चाहिए...

    ReplyDelete
  11. कलयुगी महाभारत !!
    सुन्दर प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  12. वाह!!!वाह!!! क्या कहने, बेहद उम्दा

    ReplyDelete
  13. तारीफ के लिए हर शब्द छोटा है - बेमिशाल प्रस्तुति - आभार.

    ReplyDelete
  14. बहुत सही आकलन प्रस्तुत किया है आपने!
    रचना भी बहुत अच्छी बन गई है!

    ReplyDelete
  15. रचना बहुत अच्छी है!

    ReplyDelete
  16. वाकई ! सार्थक चित्रण कलियुगी महाभारत का.

    ReplyDelete
  17. बहुत शानदार लिखा है गोदियाल साहब। आनंद आ गया।

    ReplyDelete
  18. सार्थक चिंतन ... इतिहास अपने आप को दोहरा रहा है नये नये पात्रों में ....

    ReplyDelete