Thursday, December 29, 2011

अभिलाषा मेरी !


अगर ऐसा होवे नए साल में,
मिले न काला कहीं दाल में, 

जंगलराज भी ख़त्म हो जाए,
कोई गधा न घूमें शेरखाल में।

अंधा चुने न ठग काने वाले

शठ बहेलिया न दाना डाले,
पंछी फंसें न किसी जाल में,
काश ! ऐसा होवे नए साल में।


दीप प्रज्वलित हो बुद्धि-ज्ञान का,
प्राबल्य विनाश हो अभिमान का,
बैठा न अब उलूक डाल-ड़ाल में, 

अगर ऐसा होवे नए साल में

हर जन की ये ही तमन्ना होए,
भूखे पेट कोई जन ना सोए,
जिये न कभी कोई बदहाल में ,
काश ! ऐसा होवे नए साल में।


लूट-खसौट न कहीं रहे साधना,
भारतीयता की बची रहे भावना,
देश सलामत रहेगा हर हाल में, 

अगर ऐसा होवे नए साल में।  

13 comments:

  1. बहुत ही खूबसूरत आह्वान । सच में आम आदमी के मन की बात । काश काश काश काश ..

    ReplyDelete
  2. काश ऐसा हो जाये……… नव वर्ष की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  3. आप मौके पे चौका मारते हैं ... अभी कल ही सी इ गी ने दाल में १२०० करोर का घोटाला निकाला और आपने आज ही दाल की बात कर दी ... हा हा ... नया साल बहुत बहुत मुबारक हो गौदियाल जी ...

    ReplyDelete
  4. बहुत खूबसूरत आह्वान|
    आप को नव वर्ष की शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  5. काश! ऐसा होवे .आप को नव वर्ष की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  6. उम्मीद पर दुनिया कायम है ।
    शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  7. दीप प्रज्वलित हो बुद्धि-ज्ञान का,
    प्राबल्य विनाश हो अभिमान का,
    बैठा न हो उलूक डाल-ड़ाल में,
    काश! ऐसा होवे नए साल में।
    काश ऐसा हो जाए ,मुझे एक देश मिल जाए जहां आंकड़ों में सीमित न हो प्रगति ,खुले आम मिल सकें मुकेश और अनिल अम्बानी .धीरुभाई कलावती में फर्क न हो .मंद बुद्धि बालक कलावती का खाना न उडाए ,वोट के लिए कोई किसी को न बहकाए .काश ऐसा हो जाए .

    ReplyDelete
  8. काश आपकी इस कविता की तरह ही हो नया साल. ........नायर साल की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  9. bahut hi behtreen rachna nav varsh ki haardik bdhai....:)

    ReplyDelete
  10. नये वर्ष में सबका मंगल...

    ReplyDelete
  11. काश ऐसा हो पाए .....

    ReplyDelete

ब्लॉगिंग दिवस !

जब मालूम हुआ तो कुछ ऐसे करवट बदली, जिंदगी उबाऊ ने, शुरू किया नश्वर में स्वर भरना, सभी ब्लॉगर बहिण, भाऊ ने,  निष्क्रिय,सक्रिय सब ...