Saturday, March 24, 2012

तरक्की की अधोगति

11 comments:

  1. बहुत ख़ूबसूरत.

    ReplyDelete
  2. http://bulletinofblog.blogspot.in/2012/03/5.html

    ReplyDelete
  3. हाँ, अब बाँसुरी कम, नगाड़ा अधिक बजता है।

    ReplyDelete
  4. सही कहा, यही पहचान हो गई है.

    ReplyDelete
  5. AAJ TO YUG HI ESKA HAE JO JITNA HALLA MACHAYEGA UTNA HI ATTENTION PAYEGA
    SACHMUCH BAHUT HI SARTHAK RACHNA

    ReplyDelete
  6. ·म शब्दों में अधि· और सारगर्भित बात।

    ReplyDelete
  7. कम शब्दों में अधिक और सारगर्भित बात।

    ReplyDelete

ब्लॉगिंग दिवस !

जब मालूम हुआ तो कुछ ऐसे करवट बदली, जिंदगी उबाऊ ने, शुरू किया नश्वर में स्वर भरना, सभी ब्लॉगर बहिण, भाऊ ने,  निष्क्रिय,सक्रिय सब ...