Friday, March 16, 2012

Good Bye Falak !




You have chosen sacred silence,
no one will miss you,
no one will hear your cries.
No one will come to put roses on your grave

with choked voice and flood in eyes.


Butcher's door will remain open,
for your such a fiendish bastard dad.
There's nothing more depressing
than having it all and still feeling sad.


You got a helpless and cruel mom,
don't know, why do you have so much bad luck.
Now you have left for a better world,
may your soul rest in eternal peace, good bye Falak !!

माँ-बाप निष्टुर थे .


तो क्या हुआ,


मौत तो अपनी निकली,


जिसने बिना भेदभाव


तुझे गले लगा लिया !


भले ही उतरता नहीं


यह अपने हलक,


कि जी गई तू


किसी भी तरह


अब तलक,


शर्मशार हूँ,


इस जालिम दुनिया की


करतूतों पर,


इसलिए यही कहूंगा कि


गुड बाई फलक !

10 comments:

  1. क्रूर जगत से मुक्ति मिली।

    ReplyDelete
  2. विधि का विधान!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  3. डॉक्टर्स ने बहुत कोशिश की जो काबिले तारीफ़ है ।

    ReplyDelete
  4. दुखद घटना थी .... आत्मा को शांति मिले ...

    ReplyDelete
  5. उफ़ बेहद भयानक त्रासदी सही नन्ही सी जान ने ईश्वर उसकी आत्मा को शांति दे।

    ReplyDelete
  6. मार्मिक ... रोते हुवे ह्रदय से निकले हैं शब्द जैसे ...
    ये दुनिया अगर मिल भी जाय तो क्या है ...

    ReplyDelete
  7. मार्मिक प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  8. @अब तलक, शर्मशार हूँ,
    इस जालिम दुनिया की
    करतूतों पर,
    इसलिए यही कहूंगा कि
    गुड बाई फलक

    मानो हम सब की बेबसी को शब्द दे दिये हों!
    क्षमाप्रार्थना और श्रद्धांजलि!

    ReplyDelete