Sunday, November 11, 2012

धन-ते -रस !










कहीं सफ़ेद तो 
कहीं काली कमाई की हबस !
धनाड्यों के धन-ते-रस !!

सडक,गली-मुहल्लों में 
ख़ासा जाम, 
जो जहां खडा 
घंटों हो न पाया,  
वहाँ से टस-से-मस !   
धनाड्यों के इस धन-ते-रस !!  

देश में कहने को 
यूं तो मंदी है,
शहर में तमाम  
बो-हवा भी गंदी है,
चार चाँद लगे मगर  
बुलियन बाजार को, 
खरीददार मिला जब 
ढाई करोड़ के  
हीरों के हार को,  
मिंयाँ,  बीबी को 
कर न पाया बस !  
धनाड्यों के इस धन-ते-रस !!

छवि गूगल से साभार !

9 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    त्यौहारों की शृंखला में धनतेरस, दीपावली, गोवर्धनपूजा और भाईदूज का हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  2. धनतेरस को आपको बधाई --------
    वैसे तो आपकी प्रस्तुति तो हमेसा है समाज का प्रतिबम्ब दिखाती है, जेकिन आज तो देश का प्रतिबिम्ब ही सामने हो गया . बहुत सुन्दर कबिता के माध्यम से अच्छी प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  3. धनाढ्यों के धनतेरस के चलते आम आदमी की क्या औकात ।

    दीपावली की शुभ कामनाएं ।

    ReplyDelete
  4. bahut sateek vivran ! asli dhanteras to kali kamayi walo ka hi hai !

    ReplyDelete
  5. दीप पर्व की

    हार्दिक शुभकामनायें
    देह देहरी देहरे, दो, दो दिया जलाय-रविकर

    लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    ReplyDelete
  6. बहुत बढिया । आपको दीपावली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  7. सुन्दर प्रस्तुति.

    दीप पर्व की आपको व आपके परिवार को ढेरों शुभकामनायें

    मन के सुन्दर दीप जलाओ******प्रेम रस मे भीग भीग जाओ******हर चेहरे पर नूर खिलाओ******किसी की मासूमियत बचाओ******प्रेम की इक अलख जगाओ******बस यूँ सब दीवाली मनाओ

    ReplyDelete
  8. सच कहा, उनको धन से रस मिलता है..

    ReplyDelete

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना !

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना ! (New concept of 'seating arrangement' in Metro coaches ! ) ...