Friday, November 2, 2012

करवाचौथ पर ....










करवाचौथ  की शुभकामनाओं संग एक पुराना जोक:
पुरानी ऐल्बम देखते हुए बेटा बोला-  मां, इस फोटो में यह तुम्हारे साथ इतना हैंडसम सा आदमी कौन है?
मां- अरे बेटा  ये तुम्हारे पापा हैं !
बेटा ( आश्चर्य व्यक्त करते हुए)  - तो माँ अब हम इस मोटू-टकले के साथ क्यों रहते हैं?

24 comments:

  1. सुंदर भाव ..
    संक्षिप्‍त पर अच्‍छी ..

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छे भाव प्रकट किये हैं...धन्यवाद.

    ReplyDelete
  3. अति प्रीतिवान! धन्यवाद और नमस्ते |

    ...ॐ शम्नो मित्रस्य वरुण:
    शम्नो भवत्वर यम
    शम्नो बृहस्पति:
    शम्नो विष्णु रुक्रमः
    नमो ब्रह्मणे
    नमस्ते वायो:...


    शम्नो आंधी नीलम:
    शम्नो आंधी सेंडी:
    शम्नो सर्व आंध्यौ:
    शम्नो सर्व चक्रवातौ:
    शम्नो सर्व उत्पातौ:
    शम्नो सर्व प्रपातौ:

    सर्वे सुखिन: सन्तु.... :)

    ReplyDelete
  4. ओ ! चाँद जहाँ वो जाये..............कमाल की अभिव्यक्ति ...........

    ReplyDelete
  5. जय हो महाराज ... बहुत बढ़िया !

    करवा का व्रत और एक विनती - ब्लॉग बुलेटिन पूरी ब्लॉग बुलेटिन टीम की ओर से आप को करवा चौथ की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें !आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर ..... हर परेशानी से बचाने की ही ख़्वाहिश रहती है ...

    ReplyDelete
  7. बढ़िया भाव... आपकी दुआ क़ुबूल हो
    जोक बेहतरीन... मैंने पहली बार पढ़ा

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्दर भाव...

    कुँवर जी,

    ReplyDelete
  9. करवाचौथ की हार्दिक मंगलकामनाओं के साथ आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (03-11-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!

    ReplyDelete
  10. सुन्दर रचना...
    मजेदार जोक....
    :-)

    ReplyDelete
  11. हृदय की श्रेष्ठतम भावनाओं से निसृत उदगार हैं यह .बधाई करवा चौथ की .

    ReplyDelete
  12. :)
    अति सुन्दर .
    पर्व की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  13. वाह बहुत लाजवाब पोस्ट.

    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत हैं। धन्यवाद !!

    Recent post link -

    http://rohitasghorela.blogspot.com/2012/10/blog-post.html

    ReplyDelete
  14. bahut sundar prastuti, nari samarpan ki parakastha ka di hota hai करवाचौथ, बिन अन्न-जल,
    भूखी-प्यासी, सोलह श्रृंगार कर , सांझ को छत पर खडी छन्नी से तक के चाँद को दुआ मांगती थी इक सुहागन ; ऐ चाँद ! नहीं कोई और मे

    ReplyDelete
  15. अच्छी प्रस्तुति !:)
    ~सादर !

    ReplyDelete
  16. bahut behtareen prastuti:)
    sabhi naariyon ka dil jeet liya aapne:)

    ReplyDelete
  17. नीलम ने कल दया दिखायी, आसमान खुल गया और चाँद दिखायी पड़ गया।

    ReplyDelete
  18. बहुत बढ़िया प्रस्तुति .....

    ReplyDelete
  19. ब्लॉग बुलेटिन की पूरी टीम की ओर से आप सभी मित्रों को करवा चौथ की हार्दिक मंगलकामनाएँ !
    इस मौके पर पेश है रश्मि प्रभा जी द्वारा तैयार किया हुआ ब्लॉग बुलेटिन का करवा चौथ विशेषांक |
    ब्लॉग बुलेटिन के करवा चौथ विशेषांक पिया का घर-रानी मैं मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete


  20. मस्त जोक
    आदरणीय पी.सी.गोदियाल "परचेत" जी


    कविता भी ...
    :)

    ReplyDelete




  21. ☆★☆★☆


    ♡♥♡♥♡♥♡♥♡♥♡♥♡♥♡♥♡♥♡♥♡♥♡♥♡♥♡♥♡♥♡
    सभी दम्पतियों को करवाचौथ की हार्दिक मंगलकामनाएं !
    -राजेन्द्र स्वर्णकार
    ♡♥♡♥♡♥♡♥♡♥♡♥♡♥♡♥♡♥♡♥♡♥♡♥♡♥♡♥♡♥♡


    ReplyDelete
  22. सुन्दर अभिव्यक्ति
    करवाचौथ की हार्दिक मंगलकामनाएं !
    नई पोस्ट मैं

    ReplyDelete

दिल्ली/एनसीआर, क्या चिकित्सा मर्ज का मूल मेदांता सरीखे अस्पताल नहीं ?

  चूँकि दिल्ली के मैक्स और हरियाणा  के  फोर्टिस अस्पताल का मुद्दा गरम है, इसलिए इस प्रसंग को उठाना जायज समझता हूँ। पिछले कुछ दशकों से अधिक...