Monday, October 29, 2012

क्षणिकाएं -मैंगो पीपुल ऑफ़ बनाना रिपब्लिक '


खट्टे-मीठे, रसीले, 
सख्त और पितपिते,
अफ़सोस  कि 
सबके सब गए  बिक,  

'मैंगो पीपुल ऑफ़  
बनाना रिपब्लिक '  !!

xxxxxxxxxxxxxxxxxxx

गुरू ने शिष्य से कहा;
सिद्ध करो देकर तर्क,  
गरीब और अमीर 
भिखमंगे के बीच का फर्क !
शिष्य ने कहा ;
मुझे अच्छी तरह है याद, 
एक करबद्ध होकर 
जन-मानष  के दर 
रोज पहुचता है
और एक पांच साल बाद !  
गरीब भिखमंगा लाचार, 
भीख मांगते हुए शर्मशार होता है,
जबकि अमीर भिखमंगा
बेशर्म, मक्कार और गद्दार होता है !!   

13 comments:

  1. सटीक प्रस्तुति ||

    ReplyDelete
  2. अमीर भिखमंगा
    कुटिल,बेशर्म और गद्दार होता है !!

    बहुत खूब .. सटीक

    ReplyDelete
  3. गुरु के शिष्य का प्रयास और वर्णन सराहनीय है |

    ReplyDelete
  4. बहुत सही कहा, ये बहुत बड़े वाले भिखारी हैं, भगवान बचाए अब तो इनसे....

    ReplyDelete
  5. dono hee gazab kee chot karne wali....ekdum sateek

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर बात कही है श्रीमान गोदियाल साहब..

    ReplyDelete

  7. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगल वार ३० /१०/१२ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका स्वागत है |

    ReplyDelete
  8. निशान और निशाना,दोनों ही हृदय पर लगते हैं...

    ReplyDelete
  9. पर हम किसी की लाचारी और किसी की कुटीलता नहीं समझ पाते ..

    ReplyDelete
  10. मजे की बात यह है की भीख मांगना दोनों की मज़बूरी है...........
    सुंदर क्षणिकाएं..............

    ReplyDelete
  11. बहुत अच्छे... सटीक

    ReplyDelete

ब्लॉगिंग दिवस !

जब मालूम हुआ तो कुछ ऐसे करवट बदली, जिंदगी उबाऊ ने, शुरू किया नश्वर में स्वर भरना, सभी ब्लॉगर बहिण, भाऊ ने,  निष्क्रिय,सक्रिय सब ...