Thursday, August 8, 2013

नया दौर !

बड़े-बड़ों के हौंसले, सियासत की चौखट पर डिग जाते है,
खुदा मेहरबां हो तो सर पे गधों के भी ताज टिक जाते है।  
वो दुप्पट्टे, वो चुनर, गँवा लेती हैं जिनको लुटी अस्मतें,  
जनपथ की फुटपाथ-हाट पे अकसर, वो भी बिक जाते हैं।  


























7 comments:

आत्ममंथन !

बस, आज  कुछ नहीं कहने का क्योंकि आज अवसर है शूरवीरो की पावन सरजमीं के  बंदीगृह के बंदियों से,  कुछ सीख लेने का ।