Saturday, December 5, 2009

जरुरत आन पडी है !

13 comments:

  1. हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा मजेदार, अब तो आप कार्टुनिस्ट बन ही गये, बधाई हो।

    ReplyDelete
  2. स्केनर की सुविधा हो तो कागज पर बनाएं, या फिर माउस से लिखने के स्थान पर टाइप करें.

    बाकी तो हा हा हा हा

    ReplyDelete
  3. Great Bhai. Ab CBI, Judiciary ka NARCO karana hoga tabhi desh ka bhala haga. Chhote se Cartoon ne badi baat kah di.

    ReplyDelete
  4. फिर एक टेस्ट फारेंसिक एक्सपर्ट का भी करवा डालना..

    ReplyDelete
  5. मैं तो बैंक गया था खाते की एमआरआई कराने। कुछ भी न निकला।

    ReplyDelete
  6. सही है... सच में भी हंसी नकलती है.

    रोने की नयी विधा है

    हा हा हा हा हा हा

    ReplyDelete
  7. हा.. हा... हा... सच में लाजवाब कार्टून है ....... दे धना धन .....

    ReplyDelete
  8. आप तो ब्लाग जगत के सभी कार्टूनिस्ट को पीछे छोड गये? लाजवाब्

    ReplyDelete
  9. :)
    अब तो आप नामी कार्टूनिस्टों की सूची में शामिल हो ही जाएंगें :)
    बहुत ही उम्दा!

    ReplyDelete
  10. .
    .
    .
    बेहतरीन!

    वैसे इस मामले ने हम सब को बाकी दुनिया के लिये उपहास का पात्र बना दिया है। दो बेकसूर मर गये और मारने वाले को पकड़ना तो दूर, यह तक पता नहीं लग पाया कि मारा किसने ? यह सब हुआ नारको टेस्ट और साइकोएनालिसिस को जरूरत से ज्यादा महत्व देने और कॉमन सेन्स को दरकिनार करने से ही। फिर मीडिया के दखल ने मामले को ही उलट पुलट कर रख दिया... अब तो यह भी समझ नहीं आता कि मुलजिम कौन है और मजलूम कौन?
    आपने कार्टून में CBI पर व्यंग्य तो किया है पर मेरा मन आज भी कहता है कि कभी न कभी यह केस एक ऐसे अधिकारी को मिलेगा जो COMMON SENSE का इस्तेमाल कर अगर CLUTTER FREE दिमाग से सोचेगा, इसे अपने और अपने पेशे के लिये एक चुनौती की तरह लेगा तो कातिलों को सजा जरूर मिलेगी।

    ReplyDelete
  11. kis kis ka narco karwaiega sir... aur narco test karne wale unko record karne wale case file karne wale aur faisla sunane walon ka kya karein...

    ReplyDelete

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना !

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना ! (New concept of 'seating arrangement' in Metro coaches ! ) ...