Monday, November 30, 2009

ये दुनियां चलायमान है मूरख!



इस कदर करता
किस बात पर अभिमान है ,
ये दुनियां चलायमान है मूरख,
ये दुनियां चलायमान है।

भाई-भतीजा, गांव-गदेरा,
जाना तय है 
और 
अन्तकाल मा कोई न तेरा,
फिर  किस बात का,
तुझे इतना गुमान है।
ये दुनियां चलायमान है मूरख,
ये दुनियां चलायमान है।


अच्छा -बुरा  नीति-अनीति ,
इनमे से ही है तय करना,
निष्पादन  जैसा ,
प्रतिफल भी वैसा ही भरना,
कुछ ऐसा ही जगत का
अपना एक  विधान है।  

ये दुनियां चलायमान है मूरख,
ये दुनियां चलायमान है।



चरित्र मुट्ठी में बंद बालू  है  

फिसल न जाये,पकड के रख,
 प्रतिष्ठा  गतिवान है  
खिसक  न जाए ,जकड के रख,
लोभ  की आंधियो में
जो डगमगाये वो ईमान है।  

ये दुनियां चलायमान है मूरख,
ये दुनियां चलायमान है 

18 comments:

  1. सत्य को पकड के रख
    जरुरत से ज्यादा चिकना है यह
    कब हाथ से फिसल जाये पता नही ॥
    बहुत सुंदर रचना लिखा है आपने! हर एक पंक्तियाँ लाजवाब है और सच्चाई बयान करती है!

    ReplyDelete
  2. "अच्छा और बुरा ,
    इन्ही दोनो मे ही तुझे कुछ करना,
    यह भी तय है कि जैसा करेगा,
    प्रतिफल भी है उसका भरना,"


    सुन्दर!

    किन्तु;

    आज के जमाने में यदि
    तू अच्छा करेगा
    तो यह भी समझ ले कि
    हरदम भूखा ही मरेगा

    और यदि बुराई
    के रास्ते को चुनेगा
    तो निश्चय जान कि
    जल्दी ही धनकुबेर बनेगा

    ReplyDelete
  3. यहां बर्गलाने को,
    स्वार्थ की आंधियां बहुत चलती है,
    इसमे जो डगमगा गया ,
    वही तो तेरा ईमान है !
    बहुत सुंदर,
    लेकिन अवधिया जी अभी से ही बरगलाने लगे,
    ये "रंडापा" काटने दे तो..............

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छा लिखा

    ReplyDelete
  5. बहुत सटीक और चिकना सत्य कहती रचना. एक एक शब्द बोल रहा है. नमन है आपको.

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. वाह ज़नाब , पूरी गीता का सार प्रस्तुत कर दिया, चंद शब्दों में।
    बधाई।

    ReplyDelete
  7. अच्छा और बुरा ,
    इन्ही दोनो मे ही तुझे कुछ करना,
    यह भी तय है कि जैसा करेगा,
    प्रतिफल भी है उसका भरना,
    सार्थक बातें सरल और सुन्दर ढंग से

    ReplyDelete
  8. हम्म्म
    सहमत हूं
    चलायमान न होती तो आज हम यहां नहीं पहुंचते

    ReplyDelete
  9. आप की बात से सहमत है जी

    ReplyDelete
  10. रचना जीवन की अभिव्यक्ति है।

    ReplyDelete
  11. यहां बर्गलाने को,
    स्वार्थ की आंधियां बहुत चलती है,
    इसमे जो डगमगा गया ,
    वही तो तेरा ईमान है !
    ये दुनियां चलायमान है मूरख,
    ये दुनियां चलायमान है !!

    वाह्! गोदियाल जी, आपने तो इस रचना में गहरा दर्शन समेट डाला....
    बहुत ही बढिया!!

    ReplyDelete
  12. मन विरक्ति से भर गया...धन्य हैं आप!!!


    शानदार!

    ReplyDelete
  13. बहुत बढ़िया लगी यह रचना.....

    =====================================

    कृपया मेरी नई पोस्ट देखिएगा.....

    ReplyDelete

ब्लॉगिंग दिवस !

जब मालूम हुआ तो कुछ ऐसे करवट बदली, जिंदगी उबाऊ ने, शुरू किया नश्वर में स्वर भरना, सभी ब्लॉगर बहिण, भाऊ ने,  निष्क्रिय,सक्रिय सब ...