Thursday, November 26, 2009

आह्वान- उठ, जाग मुसाफिर जाग !

कद्र जहां शान्ति की हो , वहां शान्ति का इजहार कर,
किंतु, वैरी  न माने प्यार से  तो, पलटकर  वार कर।

हम तो 
सदा से शान्ति के, पथ पर ही चलते आये है,

किन्तु ऐवज मे अमूमन,जख्म ही देह ऊपर पाये है,
जिल्लत उठाई है बहुत,मुगल,फिरंगियो से हारकर,
अब अगर वैरी  न माने प्यार से ,पलटकर वार कर।  

आखिर इसतरह कब तक सहेंगे ,जुल्म सहना पाप है,
है दुष्ट-दानव दर पे बैठा, जो मानवता पर 
अभिशाप है,

छद्म युद्ध थोंपा है हमपर ,निरपराधों का नरसंहार कर,
अब अगर वैरी  न माने प्यार से ,पलटकर वार कर।  

बेइंसाफी की आहटों पर, चुप  न बैठों  नजरें फेरकर ,
 दुश्मन लगे लांघने हदें जब , तो मोरो उसे घेरकर,
पहल खुद से ना हो अन्याय की, ऐंसा व्यवहार कर

अब अगर वैरी  न माने प्यार से ,पलटकर वार कर।   


दिन प्रतिदिन दुश्मनो का हौंसला,हो रहा उन्मत्त है,
उठ, जाग मुसाफ़िर जाग, अभी भी पास तेरे वक्त है,

कोई समझे न बात को शिष्टता से, उससे तकरार कर,
अब अगर वैरी  न माने प्यार से ,पलटकर वार कर।  

23 comments:

  1. "पर दुश्मन न माने प्यार से, पलटकर तू वार कर!"

    यही श्री कृष्ण ने अर्जुन से भी कहा था!

    ReplyDelete
  2. जो प्यार दे उसे प्यार करो
    प्यार से ना माने उसका संहार करो

    जय हिंद

    ReplyDelete
  3. अन्याय की आहट पे गर, तू खुद ही नजरें फेर लेगा,
    इसे शत्रु अशक्तता समझकर, आ तुझे फिर घेर लेगा,
    लोग कायर समझ बैठे , ऐंसा न कोई व्यवहार कर,
    गर दुश्मन न माने विनम्रता से, पलटकर वार कर !
    और आखिरी पहरा बहुत ही अच्छा लगा लाजवाब रचना है बधाई

    ReplyDelete
  4. अगर दुश्मन न माने प्यार से, पलटकर वार कर !

    सत्य वचन...


    आज हँसते रहो पर गाँधी जी के साथ आपकी फोटो लगाई है... http://hansteraho.blogspot.com/2009/11/blog-post_26.html

    ReplyDelete
  5. गर दुश्मन न माने विनम्रता से, पलटकर वार कर !

    बहुत ही सुन्‍दर भाव, एवं सत्‍यता के निकट हर पंक्ति, आभार के साथ शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  6. Godiyal ji..... RAM....RAM....



    छिपकर सदा की तरह, वैरी का तुझपर वार होगा,
    खुद ही लड्ना है तुझे, कोई न तेरा मददगार होगा ,
    जो समझे न बात को शिष्टता से, उससे तकरार कर,
    गर दुश्मन न माने विनम्रता से, पलटकर वार कर !

    in panktiyon ne dil ko chhoo liya....

    bahut sunder abhivyakti....

    ReplyDelete
  7. soye huye ko jagana aasan hota hai magar jage huye ko kaise koi jagaye..........aapki koshish lajawaab hai.

    pls read-------http://redrose-vandana.blogspot.com

    ReplyDelete
  8. बहुत सटीक और मार्मिक अभिव्यक्ति.

    रामराम.

    ReplyDelete
  9. सरहदो पर हौंसला असुर का, हो रहा नित सशक्त है,
    उठ,जाग मुसाफ़िर जाग, अभी भी पास तेरे वक्त है,
    तू दे जबाब मुहतोड उसको, घाट मृत्यु के उतार कर,
    अगर दुश्मन न माने विनम्रता से, पलटकर वार कर !


    जब दुश्मन आकर छाती पर सवार हो जाएगा...तब सोच लेंगें कि कैसे निपटना है...अभी तो बस सोने दीजिए जनाब्!

    ReplyDelete
  10. सही है- हम कब तक दोस्ती का खेल खेलेंगे

    ReplyDelete
  11. palat kar tu vaar ka.......bahut achhe

    ReplyDelete
  12. हमें तो आपकी इस ब्‍लॉग पोस्‍ट पर तोप तलवार तीर ही नजर आये, लगा साक्षात युद्ध ही छि‍ड़ गया है बहुत ज्‍यादा प्रभावशाली थे ये शब्‍द।


    सही है शब्‍द भी तो बम बारूद जैसे ही होते हैं। पर खतरनाक बात तो ये है कि‍ इंसान ही इनका इस्‍तेमाल कर पाता है। और उसके बाद 2012 नाम की फि‍ल्‍म तो है ही।

    ReplyDelete
  13. मुफलिसों के तलवों जिन्दगी,
    घुट-घुट के ही खो जायेगी ,
    जाग मुसाफिर जाग,
    वरना बहुत देर हो जायेगी,
    फिर फायदा क्या,
    अगर पछताना पड़े थक-हार कर,
    अगर दुश्मन न माने प्यार से,
    पलटकर तू वार कर !

    दुशमन और प्यार.
    आप भी क्या बात करते हैं सरकार!
    करो दुश्मन से दुश्मनी
    और मित्र से प्यार!

    ReplyDelete
  14. सच कह रहे है सरकार ६० वर्षो से सो रही है .. सटीक अभिव्यक्ति.....

    ReplyDelete
  15. पथ अहिंसा का नितान्त, यहाँ एक श्रेष्ठतम मार्ग है,
    पर दुश्मन न माने प्यार से, पलटकर तू वार कर !

    पूरी तरह सहमत।
    आज के परिवेश में यह अत्यन्त आवश्यक है।

    ReplyDelete
  16. छिपकर सदा की तरह, वैरी का तुझपर वार होगा,
    खुद ही लड्ना है तुझे, कोई न तेरा मददगार होगा ,
    जो समझे न बात को शिष्टता से, उससे तकरार कर,
    गर दुश्मन न माने विनम्रता से, पलटकर वार कर !

    आत्मविश्वास बढ़ाती और सार्थक संदेश देती हुई रचना ..हर लाइन लाज़वाब हौसला बढ़ जाता है ऐसी कविताओं के पान से..
    धन्यवाद गोदियाल जी रचना बढ़िया लगी

    ReplyDelete
  17. लोग कायर समझ बैठे , ऐंसा न कोई व्यवहार कर,
    गर दुश्मन न माने विनम्रता से, पलटकर वार कर !
    बहुत सुंदर कविता धन्यवाद

    ReplyDelete
  18. अजी कसाव की मां कहा गई.... मै तो पढने आया था?

    ReplyDelete
  19. यूं हम सदा से शान्ति के, पथ पर ही चलते आये है,
    किन्तु ऐवज मे हमने हमेशा, जख्म ही तो पाये है,

    SACH LIKHA HAI GOUDIYAAL JI ... AAJ JAROORAT HAI TALWAAR UTHAANE KI....PALAT KAR VAAR KARNE KI ... BAHUT UTTAM RACHNA HAI ..

    ReplyDelete
  20. सटीक!! जय हो!! जय हिन्द!!

    ReplyDelete
  21. बहुत ही सुन्दर, सठिक, मार्मिक और भावपूर्ण रचना लिखा है आपने! हर एक पंक्तियाँ दिल को छू गई ! इस उम्दा रचना के लिए बधाई!

    ReplyDelete
  22. अगर दुश्मन न माने प्यार से, पलटकर तू वार कर !
    बिलकुल सही यही है गीता का सार ।

    ReplyDelete
  23. MBBS in Philippines Wisdom Overseas is authorized India's Exclusive Partner of Southwestern University PHINMA, the Philippines established its strong trust in the minds of all the Indian medical aspirants and their parents. Under the excellent leadership of the founder Director Mr. Thummala Ravikanth, Wisdom meritoriously won the hearts of thousands of future doctors and was praised as the “Top Medical Career Growth Specialists" among Overseas Medical Education Consultants in India.

    Why Southwestern University Philippines
    5 years of total Duration
    3D simulator technological teaching
    Experienced and Expert Doctors as faculty
    More than 40% of the US returned Doctors
    SWU training Hospital within the campus
    More than 6000 bedded capacity for Internship
    Final year (4th year of MD) compulsory Internship approved by MCI (No need to do an internship in India)
    Vital service centers and commercial spaces
    Own Hostel accommodations for local and foreign students
    Safe, Secure, and lavish environment for vibrant student experience
    All sports grounds including Cricket, Volleyball, and others available for students

    ReplyDelete

उत्तराखंड सरकार जी ! थोड़ा स्थानीय लोगों की भी सुन लो ।

चारधाम कपाट खुलते ही उत्तराखण्ड मे एक तरफ जहां श्रद्धालुओं का अपार हुजूम उमड पडा है,वहीं दूसरी तरफ उस का नतीजा यह है कि चारों धामों और आसपास...