Thursday, November 19, 2009

कभी मेरे शहर आना !

क्योंकि तुम भी  
इस खुशफहमी  में हो कि
शहर इक खुशनुमा जिन्दगी
जीने का आधार है,
तभी तो तुम्हे
शहरी जिन्दगी से
इतना प्यार है। 


मगर ये बात परम सत्य नही,
तुम्हे कैसे समझाऊ ?
यहाँ सांझ ढलने के बाद,
लोग कैसे जीते है ,
तुम्हे क्या बताऊ ?
अरे नासमझ,
गांव एवं शहर की जिन्दगी मे,
फर्क हैं नाना ,
शहरी जिन्दगी देखनी हो,
तो कभी मेरे शहर आना।  


तुम्हे दिखाऊंगा कि
कथित विकास की आंधी मे,
मेरा शहर कैसे जीता है,
प्यास बुझाने को
पानी के बदले , पेट्रोल-डीजल,
मिनरल और ऐल्कोहल पीता है।

क्या घर, क्या शहर,
हर दिन-हर रात की मारा-मारी में,
वो सिर्फ जीने के लिए जीते है,
जीवन की इस जद्दोजहद में
क्या शेर, क्या मेमना,
सबके सब एक ही घाट का पीते है।

ऊँचा उठने की चाहत में,
मकान-दूकान, सड़क-रेल,
यहाँ सबके सब टिके है स्तंभों पर,
जिन्दगी भागती सरपट
कहीं जमीं के नीचे 
तो कहीं 
खामोश लटकती खम्बों से खम्बों पर।  

गगनचुम्बी इमारतों में
मंजिल तक  पहुँचने को पैर,

 लिफ्ट ढूंढते है ,खुद नहीं बढ़ते !
ऊँचे-ऊँचे शॉपिंग मॉल पर ,
सीडियों से चड़ते -उतरते वक्त
कहीं घुटने नहीं भांचने पड़ते।

एक बहुत पुराने किले का खंडहर 

जो चिड़ियाघर के पास है ,
वो आजकल अपने में ख़ास है,
क्योंकि वहाँ पर अब 
भरी  दोपहर में भी 
अतृप्त आत्माओं का वास है।

राजा से लेकर रंक तक,
यहाँ विचरण करती,
हर तरह की हस्ती हैं,
एक तरफ जिन्दादिलों  

तो  एक तरफ
मुर्दा-परस्तो की बस्ती है।  


कहीं  पर इस शहर में,
कोई अभागन,
देह बेचकर भी दिनभर
भरपेट नहीं जुटा पाती है,
और कहीं कोई नई  दुल्हन 

मंडप पर दुल्हे को 
वरमाला पहनाने हेतु,
क्रेन से  भी उतारी जाती है।

मैं  
हैरान  स्तंभित नजरो से
देख-देखकर सोचता हूँ  
कि  इस सहरा में 
बिन बरखा, बिन बाली , 
वन्दगी  गाती  है  कौन सा तराना,
ऐ दोस्त ! शहरी जिन्दगी देखनी हो,
तो कभी मेरे इस शहर आना।

22 comments:

  1. दिल को सिर्फ छूती हुई नहीं बल्कि उसके भीतर जाके उसके घावों को कुरेदती हुई सी कविता लिखी आपने,,, शहर मुझे भी कभी पसंद नहीं आये...
    जय हिंद...

    ReplyDelete
  2. नंगा सच...पर हम सब का भोगा हुआ सच..हम सब के भीतर का सच..

    ReplyDelete
  3. जिंदगी को आईना दिखा दिया आपने।
    बधाई इस सफल प्रस्तुति के लिए।
    ------------------
    11वाँ राष्ट्रीय विज्ञान कथा सम्मेलन।
    गूगल की बेवफाई की कोई तो वजह होगी?

    ReplyDelete
  4. सुन्दर रचना , बधाई

    ReplyDelete
  5. ufff! aapke lekhan ne rongte khade kar diye.........dil mein bahut gahre utar gayi.........sach ko aaina dikhti rachna .......ab kahne ko bacha kya hai.

    ReplyDelete
  6. शहरी जिन्दगी देखनी हो,
    तो कभी,
    मेरे शहर आना !!
    बेहतरीन अभिव्यक्ति, स्खलित हो रहे शहरी संस्कृति को बखूबी उकेरा है

    ReplyDelete
  7. किसी शायर का एक मिसरा याद आ गया " आज ये शहर खफा है के मै सच बोलता हूँ " आपने शहर के बारे मे जो सच बयाँ किया है उससे यही लगता है । अजीब है यह शहर मे रह्ना भी मन होत है कि रहें और यह भी कि यहाँ न रहें ।

    ReplyDelete
  8. अजब बात कही कि जान ही नहीं पड़ता
    भला ये तेरा शहर या कि ये मेरा शहर है...

    ReplyDelete
  9. आदमी के अंदर भी एक ऐसा ही शहर होता है।

    ReplyDelete
  10. aapke shahar aaye hue ko jara mere shahar bhi bhej dena taaki dekh le ki har shar ki hoti ek si dastan.

    ReplyDelete
  11. "क्या घर, क्या शहर,
    हर दिन-हर रात की
    मारा-मारी में,
    वो सिर्फ जीने के लिए जीते है!"



    सही है, जीने का कोई उद्देश्य नहीं रह गया है, सिर्फ जीने के लिये जीते हैं!

    ReplyDelete
  12. बहुत खुब लिखी आप ने यह रचना दिल के तारो को छु गई.धन्यवाद

    ReplyDelete
  13. जिन्दगी का कच्चा चिट्ठा या कहें सच्चा चिट्ठा

    ReplyDelete
  14. @"कहीं मेरे इस शहर में,
    कोई अभागन,
    देह बेच कर भी दिनभर
    भरपेट नहीं जुटा पाती है !
    और कहीं,
    कोई नई सुहागन ,
    दुल्हे को वरमाला पहनाने हेतु,
    क्रेन से उतारी जाती है !!"

    Kamaal ka observation ! Very moving poem indeed !

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर रचना…………………!!!!

    ReplyDelete
  16. अरे नासमझ,
    गांव एवं शहर की जिन्दगी मे,
    फर्क हैं नाना !
    शहरी जिन्दगी देखनी हो,
    तो कभी
    मेरे शहर आना !!
    बहुत सुंदर और शानदार रचना लिखा है आपने! हर एक पंक्तियाँ लाजवाब है! दिल को छू गई आपकी ये रचना!

    ReplyDelete
  17. शहरी जिन्दगी देखनी हो,
    तो कभी
    मेरे शहर आना ।

    सच को उजागर करते शब्‍द हर पंक्ति को बेमिसाल बना गये, जीवन की जद्दोजहद लाजवाब प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  18. शहरी जिन्दगी देखनी हो,
    तो कभी,
    मेरे शहर आना !!

    दिल से निकली आवाज़ है ....

    ReplyDelete
  19. जिंदगी को आईना दिखा दिया आपने।
    बधाई इस सफल प्रस्तुति के लिए।
    LAJWAAB

    ReplyDelete
  20. MBBS in Philippines Wisdom Overseas is authorized India's Exclusive Partner of Southwestern University PHINMA, the Philippines established its strong trust in the minds of all the Indian medical aspirants and their parents. Under the excellent leadership of the founder Director Mr. Thummala Ravikanth, Wisdom meritoriously won the hearts of thousands of future doctors and was praised as the “Top Medical Career Growth Specialists" among Overseas Medical Education Consultants in India.

    Why Southwestern University Philippines
    5 years of total Duration
    3D simulator technological teaching
    Experienced and Expert Doctors as faculty
    More than 40% of the US returned Doctors
    SWU training Hospital within the campus
    More than 6000 bedded capacity for Internship
    Final year (4th year of MD) compulsory Internship approved by MCI (No need to do an internship in India)
    Vital service centers and commercial spaces
    Own Hostel accommodations for local and foreign students
    Safe, Secure, and lavish environment for vibrant student experience
    All sports grounds including Cricket, Volleyball, and others available for students

    ReplyDelete

उत्तराखंड सरकार जी ! थोड़ा स्थानीय लोगों की भी सुन लो ।

चारधाम कपाट खुलते ही उत्तराखण्ड मे एक तरफ जहां श्रद्धालुओं का अपार हुजूम उमड पडा है,वहीं दूसरी तरफ उस का नतीजा यह है कि चारों धामों और आसपास...