Saturday, September 18, 2010

ख्वाइश !



मैंने कब ये चाहा 
कि मैं भी
बहुत बड़ा 'रिच' होता,
मेरी तो बस, 
इतनी सी ख्वाइश थी
ऐ जिन्दगी,
कि तुझमे भी एक
ऑन-ऑफ का स्विच होता,
जिसे मैं मन माफिक
जब 'जी' में आता,
जलाता और बुझाता।  

19 comments:

  1. चाह नहीं रिच हो जाऊं
    और सुरबाला को कार में बिठाऊं :)

    ReplyDelete
  2. वाह!!!वाह!!! क्या कहने, बेहद उम्दा

    ReplyDelete
  3. जब जी में आता,
    जलाता बुझाता !
    कुछ तो अपने
    मन माफिक कर पाता !!

    गजब कि पंक्तियाँ हैं ...

    बहुत सुंदर रचना.... अंतिम पंक्तियों ने मन मोह लिया...

    ReplyDelete
  4. कभी कभी हम सभी को एक स्विच की आवश्यकता महसूस होती है....

    ReplyDelete
  5. कभी कभी हम सभी को एक स्विच की आवश्यकता महसूस होती है....

    ReplyDelete
  6. यह स्विच मिल जाये तो हमें भी बता दीजियेगा।

    ReplyDelete
  7. वाह ,स्विच टू लिव ...

    ReplyDelete
  8. काश ऐसा संभव होता, मज़ा ही आ जाता..............

    वाह वाह बेहतरीन पोस्ट !

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  10. साँई इतना दीजिए जा में कुटुम्ब समाय!

    ReplyDelete
  11. जब जी में आता,
    जलाता बुझाता !
    कुछ तो अपने
    मन माफिक कर पाता !!


    काश ऐसा हो पाता.:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  12. ऊपरवाला स्विच ओवर का ऑप्शन नहींदेता गोदियाल जी...वैसे आपकी ख्वाहिश पूरा हो एही हमरा कामना है!!

    ReplyDelete
  13. बहुत खूब । ऑन ऑफ़ का आइडिया बढ़िया है ।

    ReplyDelete
  14. बहुत ही शानदार! फोटो भी गज़ब का है......


    व्यंग्य: युवराज और विपक्ष का नाटक

    ReplyDelete
  15. ऐसा स्विच तो सभी ढूंढ रहे हैं......

    ReplyDelete
  16. गोदियाल जी, मिल जाये तो हमें भी बताना।

    ReplyDelete
  17. ऐ जिन्दगी,
    कि काश !
    तुझमे भी एक
    ऑन-ऑफ का स्विच होता,
    जब जी में आता,
    जलाता बुझाता !
    कुछ तो अपने
    मन माफिक कर पाता !


    --साथ में एक रिवर्स फारवर्ड का गियर. :)

    ReplyDelete
  18. बस अब इसी की कसर है ...स्विच ऑन ऑफ का भी आविष्कार हो ही जायेगा

    ReplyDelete
  19. sir ji, switch to aaj bhi hai, lekin kambaqt bijli aaye to sahi.

    good shot

    ReplyDelete

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना !

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना ! (New concept of 'seating arrangement' in Metro coaches ! ) ...