Wednesday, September 15, 2010

इमेज !

यह आज मेल से मिला था, हिन्दी रूपांतरण मनोरंजनार्थ पेश है ;

यूपी से बिहार के राष्ट्रीय राजमार्ग पर लगे तगड़े जाम में एक ड्राइवर फंसा हुआ था । आधा घंटा गुजरा, एक घंटा गुजर गया, लेकिन ट्रैफिक था कि हिलने का नाम ही नहीं ले रहा था। फिर अचानक कुछ लोग आये और उसकी गाडी की खिड़की पर ठक-ठक किया ।
उस ड्राइवर ने अपनी गाडी की खिड़की का शीशा उतारा और पूछा- क्या चल रहा है भाई, ये ऐसा जाम क्यों लग गया ?
वे बोले कि देश के कुछ विख्यात नेतागण सड़क मार्ग से पटना जा रहे थे, तो कुछ नक्सलियों ने उनका अपहरण कर दिया है।
और अब वे नक्सली इनको छोड़ने का प्रति नेता १० लाख रूपये मांग रहे है, और साथ ही धमकी भी दे रहे है कि अगर तुरंत पैसों का इंतजाम नहीं किया तो वे उनके ऊपर पेट्रोल डालकर आग लगा देंगे। इसलिए हम यहाँ एक-एक गाडी वाले के पास जा रहे है ताकि कुछ कलेक्शन कर सके।
अच्छा ये बतावो कि औसतन कितना दे रहे है लोग ? ड्राइवर ने उत्सुकता से पूछा।

ज्यादातर लोग तकरीबन पांच लीटर तो दे ही रहे है !!!!!!!

26 comments:

  1. :) :) ..नेताओं की गज़ब की इमेज है ...

    ReplyDelete
  2. द्स लिटर मेरी तरफ़ से जी....

    ReplyDelete
  3. ha... ha....ham sabko isme kuchh to denaa hi chaahiye.

    ReplyDelete
  4. अतराफ़ सजाने के लिए स्पेर ट्यूब टायर हम दे देंगे :)

    ReplyDelete
  5. क्यों मीठे-मीठे सपने दिखाते हो जी :)

    प्रणाम

    ReplyDelete
  6. हा हा हा, गोदियाल जी
    मास्टरस्ट्रोक।
    पांच पांच लीटर क्यों सारी टंकी उड़ेल देंगे। मजा अ गया।

    ReplyDelete
  7. बहुत अफ़्सोसजनक बात है. ऐसी इमेज रखने वाले लोग हम पर शाशन करते हैं. दुर्भाग्य है हमारा.

    रामराम.

    ReplyDelete
  8. बेहद ज़बरदस्त पोस्ट

    गोदियाल जी ,इस मेल से हम सबको रु-ब-रु कराने के लिए आपका शुक्रिया

    महक

    ReplyDelete
  9. गोदियाल जी,
    फ़िजूलखर्ची नहीं बुझाता है आपको?? अरे चुल्लू भर डिजर्भ करने वाले के लिए पाँच लिटर !!!!!!!!!
    गोदियाल जी, ई पेट्रोल का दाम भी त एही लोग बढाया था, भुला गए!!

    ReplyDelete
  10. बहुत ठीक, कौन कहता है कि देश के लोग सहृदय नहीं हैं।

    ReplyDelete
  11. पेट्रोल के साथ डीजल-मिट्टी का तेल और भी कई चीजें दान की जा सकती हैं....

    ReplyDelete
  12. हा हा हा हा..... राज नेताओं की ये इमेज । आपने तो मेरी भी आंखे खोल दी जनाब.

    ReplyDelete
  13. नितीश से लंबी डील करके मोबादियो ने पुलिस वालो को छोड़ा , चर्चा तो यहाँ तक है की जिन्हें छोड़ा गया है वे उन्ही क़े आदमी थे जो उनका नहीं था उसे तो पहले ही ख़त्म कर दिया बिहार में माओबादी आतंकबाद फ़ैलाने में नितीश क़ा उनके पक्ष में बयान भी है.

    ReplyDelete
  14. राजनेताओं इस इमेज का ही परिणाम हैं हमारे आज के हालात ....

    ReplyDelete
  15. हा हा!! मजेदार!

    ReplyDelete
  16. बेहद ज़बरदस्त पोस्ट

    ReplyDelete
  17. वाकई में ग़ज़ब की इमेज है....

    ReplyDelete
  18. ha ha ha ha ha,

    5 litre sabi blogger kee taraf se

    ReplyDelete

  19. बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

    ReplyDelete
  20. हा हा हा…………………सही दे रहे हैं।

    ReplyDelete
  21. हा हा हा..... सही पटक कर मारा है....... बेचारे!!!!!

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर अनुवाद है!
    --
    बधाई!
    --
    दो दिनों तक नेट खराब रहा! आज कुछ ठीक है।
    शाम तक सबके यहाँ हाजिरी लगाने का

    ReplyDelete
  23. गौदियाल जी क्लाइमेक्श जोरदार है .... पाँच लीटर हर कोई दे रहा है ... वाह ...

    ReplyDelete
  24. गोदियाल जी . मुखपृष्ठ की सभी पोस्ट पढीं . आनन्द फ्राई हो गया ।
    प्रखर एवं मजेदार ।

    ReplyDelete

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना !

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना ! (New concept of 'seating arrangement' in Metro coaches ! ) ...