Friday, September 17, 2010

शिकायत ऊपरवाले से

हे ऊपरवाले  !
इस दुनिया में,
स्वार्थीजन आपको
खूब अलंकारते है,
भगवान्,ईश्वर, अल्लाह, रब, खुदा
गॉड और न जाने 

किन-किन नामों से पुकारते है।  

निःसंदेह आप खेवनहार हो,
इस दुनिया के पालनहार हो,
खूब लुटाते हो अपने भक्तों पर,
आपकी कृपा हो तो घोड़े-गधे भी 

बैठ जाते है ताजो-तख्तों पर।  

मगर एक बात जो
मुझे अखरती है , माय बाप !
सिर्फ मेरी ही बारी
क्यों कंजूस बन जाते हैं आप ?

मुझे बताओ, ऐ ऊपर वाले !
मुझमे ही सारे गुण तुमने
पाइरेटेड क्यों डाले?
अरे, कम से कम 

लेबल तो निकाल देते,
कुछ नहीं था, तो यार, 

एंटी-वायरस तो ओरिजिनल डाल देते। 

17 comments:

  1. कांटे को कांटे से ही निकाला जाता है... पायरेटेड को पायरेटेड एंटीवायरस ही काम करेगा :)

    ReplyDelete
  2. वाह!
    बहुत खूब!!
    रचना की रचना और शिकायत बोनस में!
    यानि-
    आम के आम गुठलियों के दाम!

    ReplyDelete
  3. आपकी रचना पढकर बरबस हंसी छूटे जा रही है. गजब की शिकायत ढूंढी है आपने भी.:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  4. क्या हौसला है सच को स्वीकारने का!!!

    ReplyDelete
  5. बहुत ही गूढ़ बात कही है।

    ReplyDelete
  6. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  7. प्रिय शकुनी ये किसका ब्लॉग है....

    महाराज ये ब्लॉग अंधड़ कहलाता है और आज इस पर शिकायत की आंधी चली है महाराज। पूरी कविता यों है........

    सुन्दर ! अति सुन्दर kavita hai . शिकायत वाजिब है। हमें भी बहुत सी शिकायतें रही हैं ऊपर वाले से। चलो अब कहीं और चलें....

    ReplyDelete
  8. यार, एंटी-वायरस तो ओरिजिनल डाल देते !!

    फिर मज़ा क्या आता ।

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर अर्थपूर्ण कबिता.
    धन्यवाद.

    ReplyDelete
  10. ’मुझको भी तू लिफ़्ट करा दे’
    गोदियाल जी, आज के समय में पायरेटिड वर्ज़न ज्यादा चलता है, चिंता मत करो।
    आपका नंबर भी आयेगा।
    मस्त लिखते हो, बॉस।

    ReplyDelete
  11. हा हा हा……………क्या शिकायत है।

    ReplyDelete
  12. ……क्या शिकायत है।

    ReplyDelete

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना !

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना ! (New concept of 'seating arrangement' in Metro coaches ! ) ...