Thursday, December 10, 2009

जोकर !


वह सर्कस का जोकर,
तमाम किरदारों के मध्य,
एक अजीबो-गरीब किरदार,
मकसद सिर्फ़ और सिर्फ़
दर्शकों को हंसाना,
उनका मनोरंजन करना,
और खुद की शख्सियत
सर्कस के जानवरों से भी कम ।
जोकर जो ठहरा,
आम नजरों मे
उसकी अहमियत इतनी
कि बस उसे
एक भावना-विहीन,
नट्खट अन्दाज का
रोल अदा करने वाला,
प्राणी मात्र समझते है हम ।।

10 comments:

  1. bahut hi bakhubi se dard ko undela hai.

    ReplyDelete
  2. कहता है जोकर सारा ज़माना
    आधा हकीक़त आधा फसाना...

    और सर्द रातों का दर्द से अपना ही एक अलग सा रिश्ता होता है शायद..
    बहुत खूब लिखा है आपने...
    गोदियाल साहब... दिनों दिन आपके अन्दर का कवि निखरता ही जा रहा है..
    बात क्या है....??
    मौसम बदल रहा है.... या आप बदल रहे हैं ..???

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब, लेकिन वह जोकर इतना अहम है उसपर कविता लिखी जा रही है, खेर, अवध कवि सम्‍मेलन में जाना हो तो सूचित किजिएगा, अब दो ही तमन्‍ना हैं एक आपसे आपकी कविता सुनने की दूसरे अवध देखने की, आदाब

    अवधिया चाचा
    जो कभी अवध्‍ा न गया

    ReplyDelete
  4. सर्कस का जोकर,
    पर लिखी यह कविता काफी मर्मस्पर्शी बन पड़ी है।

    ReplyDelete
  5. जोकर का किरदार वाकई अद्भुत है. इसके दर्द को बखूबी पहचाना है आपने

    ReplyDelete
  6. राज कपूर के "जोकर" से प्रभावित और दुःख को बयान करती..
    बढ़िया!

    कुछ अपने मन की

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  8. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com
    Email- sanjay.kumar940@gmail.com

    ReplyDelete
  9. इन्सान वही जो अपना दर्द छुपाकर दूसरो को हँसता रहे।
    बहुत अच्छी रचना।

    ReplyDelete
  10. life hi jokar jaisi hai. bas koshish karte hain ki doosro ko khush rakhe chahe office ho ya ghar. hum apni jindigi jite hi kaha hai bhai....

    ReplyDelete

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना !

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना ! (New concept of 'seating arrangement' in Metro coaches ! ) ...