Wednesday, January 14, 2009

अनिष्ट से आशंकित एक कली !


सूबे-मुल्क की राजधानी में 
हुमायु के मकबरे के पास,
माली के छोटे से उपवन में
बैठी थी एक कली उदास !

कली खिलकर किसी भी पल
फूल बनने के कगार पर खड़ी थी,
भवितव्यता चिंता की लकीरें
 
तमाम उसके माथे पर पडी थी !

पूछा जो उलझन का सबब,
वो बोली  भाव-विभोरकर,
मुझे बलि चढ़ाया जाएगा
संभवतया अगली भोर पर !


मृत्यु-शय्या पर है शठ नेता, 
कुटिल जुट रहे उसकी गेह पर,
मैं गिरना नहीं चाहती मगर
 भ्रष्ट सियासतदानों की देह पर !


3 comments:

  1. अच्छी कविता है भाई... बधाई स्वीकारें...

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छी कविता लिखते हैं आप. गलतियों पर ध्यान नही दें, बस रचना सुन्दर होनी चाहिए. बधाई आपको.

    ReplyDelete

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना !

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना ! (New concept of 'seating arrangement' in Metro coaches ! ) ...