Thursday, November 25, 2010

स्वतंत्र होना शेष है!


THURSDAY, MARCH 26, 2015

अग्नि-पथ !

लुंठक-बटमारों के हाथ में, आज सारा देश है,
गणतंत्र बेशक बन गया, स्वतंत्र होना शेष है !
सरगना साधू बना है, प्रकट धवल देह-भेष है,
गणतंत्र बेशक बन गया, स्वतंत्र होना शेष है!!

भ्रष्ट-कुटिल कृत्य से, न्यायपालिका मैली हुई,
हर गाँव-देश  दरिद्रता व भुखमरी फैली हुई !
अविद्या व अस्मिता, अभिनिवेश, राग, द्वेष है,
गणतंत्र बेशक बन गया, स्वतंत्र होना शेष है!!

राज और समाज-व्यवस्था दासता से ग्रस्त है,
जन-सेवक जागीरदार बना,आम-जन त्रस्त है !
प्रत्यक्ष न सही परोक्ष ही,फिरंगी औपनिवेश है,
गणतंत्र बेशक बन गया, स्वतंत्र होना शेष है!!

शिक्षित समझता श्रेष्ठतर है,विलायती बोलकर,
बहु-राष्ट्रीय कम्पनियां नीर भी, बेचती तोलकर,
देश-संस्कृति दूषित कर रहा,पश्चमी परिवेश है,
गणतंत्र बेशक बन गया, स्वतंत्र होना शेष है!!

18 comments:

  1. २०१४ में बाबा से उम्मीद है...

    ReplyDelete
  2. @ भारतीय नागरिक - Indian Citizenजी, काश !

    ReplyDelete
  3. आदरणीय गोदियाल जी
    नमस्कार !
    कटाक्ष करती प्रशंसनीय रचना - बधाई

    ReplyDelete
  4. काश! काश!! काश!!!

    प्रणाम

    रामराम.

    ReplyDelete
  5. या खुदा ! बद-इन्तजामियों का यह सूरज कब तक ढलेगा ?
    तू ही बता, अपना देश और कितना भगवान् भरोसे चलेगा
    kathhin prashn , uttar ki tlash hai

    ReplyDelete
  6. भगवान भरोसे देश चल रहा है पर धर्म निरपेक्षता अपनाते हैं।

    ReplyDelete
  7. अभी तो भगवान भरोसे ही चला जा रहा है..कोई मत छेड़ो!!

    ReplyDelete
  8. सच है ..भगवान का ही आसरा है ...

    ReplyDelete
  9. उम्मीद पर दुनिया कायम है ।

    ReplyDelete
  10. भगवान भी गोदियाल जी लगता है सो रहे हैं,लम्बी तान कर... हाँ देवोत्थान के बाद बिहार में कुछ भरोसा दिलाया है उन्होंने...लगता है नींद टूट गई है!!

    ReplyDelete
  11. .

    बद-इन्तजामियों का यह सूरज कब तक ढलेगा ?

    ---

    समय-समय पर लोग अवतरित होते ही रहते हैं , नैय्या पार लगाने के लिए।

    शायद भगवान् कुछ इन्तेजाम करें।

    .

    ReplyDelete
  12. सटीक कटाक्ष ..... सच को समेटे

    ReplyDelete
  13. बढ़िया प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  14. व्यवस्था और भ्रष्टाचार पर कटाक्ष करती हुई बेहतरीन अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सही ।

    ReplyDelete
  16. या खुदा ! बद-इन्तजामियों का यह सूरज कब तक ढलेगा ?
    तू ही बता, अपना देश और कितना भगवान् भरोसे चलेगा ..

    ये तो shaayad bhagwaan भी नहीं jaanta hoga ... vo भी ये geet gata higa ... kya से kya ho gaya ...

    ReplyDelete
  17. या खुदा ! बद-इन्तजामियों का यह सूरज कब तक ढलेगा ?
    तू ही बता, अपना देश और कितना भगवान् भरोसे चलेगा ?

    जब आम जनता अपना उत्तरदायित्व समझ जायेगी ..
    सुन्दर रचना !

    ReplyDelete

ब्लॉगिंग दिवस !

जब मालूम हुआ तो कुछ ऐसे करवट बदली, जिंदगी उबाऊ ने, शुरू किया नश्वर में स्वर भरना, सभी ब्लॉगर बहिण, भाऊ ने,  निष्क्रिय,सक्रिय सब ...