Wednesday, September 5, 2012

कार्टून कुछ बोलता है - कोलमाल है भई सब कोलमाल है ......


12 comments:

  1. चलो तस्वीर ही सही बोलती तो है ..
    बहुत बढ़िया प्रस्तुति

    ReplyDelete
  2. दाने दाने को दिखा, कोयलांचल मुहताज ।
    दान दून दे दनादन, दमके दिल्ली राज ।

    दमके दिल्ली राज, घुटे ही करें घुटाला ।
    बाशिंदों पर गाज, किसी ने नहीं सँभाला ।

    नक्सल भी नाराज, विषैला धुवाँ मुहाने ।
    धधके अंतर आग, लुटाते लंठ खदाने ।।

    ReplyDelete
  3. @कविता जी-तस्वीर में भी कोयला और रुपये ही बोल रहे है.....

    कुँवर जी,

    ReplyDelete
  4. वाह ... सच बोल रही है तस्वीर ...
    बल्कि ज्यादा जवान बना रही है इन्हें ...

    ReplyDelete
  5. उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    ReplyDelete
  6. तस्वीर का सच, देश का सच. और परिणति.....

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बृहस्पतिवार (06-09-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!
    अध्यापकदिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  8. कोलमाल शब्द ही बड़ा जानदार है। कार्टून तो खैर है ही।

    ReplyDelete
  9. क्या कोल है दे रहा माल ही माल है
    सब सही है कहीं नहीं कुछ गोलमाल है !

    ReplyDelete
  10. बेशर्म सरकार है

    ReplyDelete

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना !

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना ! (New concept of 'seating arrangement' in Metro coaches ! ) ...