Sunday, September 20, 2020

कोरोना विडंबना

 गले लगाया है तेरी जुल्फो़ंं की मोहब्बत ने, 

जबसे तन्हाइयों को,

 गाहक मिलने ही बन्द हो गये, 'परचेत' 

तमाम शहर के नाइयों को।

6 comments:

  1. मन की बात
    क्या कटाक्ष मारा है।
    😂😂
    नई रचना आत्मनिर्भर

    ReplyDelete
  2. हा हा सही कहा है आपने ... डर लगता है नाइयों के पास जाने में अब ....

    ReplyDelete

ऐ मेरे शहर!