Friday, November 19, 2010

शायद !

फैसले तमाम अपने कल पर टाले न होते,
मुमकिन था, देश में इतने घोटाले न होते।
सांप-छुछंदर आस्तीनों में जो पाले न होते, 
मुमकिन था, देश में इतने घोटाले न होते

परदों, मुखौटों में छुपकर के शठ-मक्कार,
कर न पाते इसतरह हमारी ही पीठ पर वार,
सिंहासन, गांधारी-धृतराष्ट्र संभाले न होते,
मुमकिन था, देश में इतने घोटाले न होते। 

जन उभय-निष्ठ, उलझा हुआ है अपने में,
मुल्ले,पण्डे, पादरी लगे है स्वार्थ जपने में,
अगर आवाम के मुँह पर पड़े ताले न होते,
मुमकिन था, देश में इतने घोटाले न होते। 

समाज, जाति-धर्म में इतना बँटा न होता,
हिंदोस्तां अपना जयचंदों से पटा न होता,
गर नेता-नौकरशाहों के दिल काले न होते,
मुमकिन था, देश में इतने घोटाले न होते। 

सियासत के पंकमय हमाम में सब नंगे है,
कोयले की दलाली में सबके सब बदरंगे है,   
ओंछे पंक में धसे नीचे से ऊपर वाले न होते, 
मुमकिन था, देश में इतने घोटाले न होते। 

अमुल्य वोट अपने अविवेकित डाले न होते, 
मुमकिन था, देश में इतने घोटाले न होते

22 comments:

  1. सबकामेज़॥ A stitch in time saves nine :)

    ReplyDelete
  2. देश के हालत हम आम जनता ने ही ऐसी की है !

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी रचना ... राम त्यागी जी से सहमत हूँ ... हम ही ज़म्मेदार है ...

    ReplyDelete
  4. ये तो हमेशा ही चलता रहेगा... बहुत खूब...

    ReplyDelete
  5. आज के हालात का चित्रण …………बढिया प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  6. तो आज देश में इतने घोटाले न होते ॥

    वाह! बेहतरीन कटाक्ष!


    प्रेमरस

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन रचना...
    गर नेता-शाहों के दिल काले न होते, तो आज देश में इतने घोटाले न होते ॥

    मेरे नए ब्लॉग.
    दादा का चश्मा....दादी का संदूक ..पर एक नज़र इनायत हो तो ख़ुशी होगी..
    dadikasanduk.blogspot.com

    ReplyDelete
  8. बहुत ही तीखा व्यंग्य है
    अच्छा लगा पढ़कर

    ReplyDelete
  9. बहुत सही कहा आपने...

    सार्थक और सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  10. AAPKA VYANGAATMAK ANDAAZ HAMESHA HI BHAATA HAI GOUDIYAAL JI ... BAHUT HI LAJAWAAB LIKHA HAI ... SATEEK ... YATHAARTH HAI SAB ...

    ReplyDelete
  11. कविता के मध्यम से एक ज्वलन्त समस्या पर प्रकाश डाला है.

    ReplyDelete
  12. सिंहासन, कैकई-धृतराष्ट्र संभाले न होते,
    तो आज देश में इतने घोटाले न होते ॥
    सटीक अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  13. घोटालों की गजब कहानी ,नेता हँस कर घूम रहे, जनता हो रही शर्म से पानी

    ReplyDelete
  14. राजनीति के खेल अजब निरालेहें ,
    कोयले की दलाली में हाथ काले हें -------
    बहुत सही लिखा है बधाई |आशा

    ReplyDelete
  15. समाज यहाँ इस कदर बँटा न होता,

    देश अपना जयचंदों से पटा न होता।

    गर नेता-शाहों के दिल काले न होते,

    तो आज देश में इतने घोटाले न होते...

    yahi sab jimmedaar hain desh ke patan ke liye aur badhte aatankwaad ke liye.

    .

    ReplyDelete
  16. बढ़िया है गोदियाल साहब ।

    ReplyDelete
  17. मक्कार खुद छुपे रहकर परदे के पीछे,
    सिंहासन, (कैकई)-धृतराष्ट्र संभाले न होते,
    (गांधारी)
    बड़ी तीखी बातें लिखीं हैं आपने
    पर बेशर्मों को शर्म नहीं आएगी

    ReplyDelete
  18. बहुत ही तीखा व्यंग्य है
    ......बहुत खूब...

    ReplyDelete

दिल्ली/एनसीआर, क्या चिकित्सा मर्ज का मूल मेदांता सरीखे अस्पताल नहीं ?

  चूँकि दिल्ली के मैक्स और हरियाणा  के  फोर्टिस अस्पताल का मुद्दा गरम है, इसलिए इस प्रसंग को उठाना जायज समझता हूँ। पिछले कुछ दशकों से अधिक...