Friday, June 14, 2013

मुश्किल



















बड़ा अजब दस्तूर है 
इस बेदर्द जमाने का,
घर की चौखट तो कभी 
लांघी ही नहीं  हमने 
और लोग कहते है 
कि हम गुम-राह हो गए है। 


xxxxxxxxxxxxxxxxxxxx




जब उदासी की बदली,
तेरे आशियाने पे घिरे,
यादों की बारिश,
जज्बातों के ओले,
सब मेरे ही अंगना गिरें। 
आरजू खुदा से है , 
सलामत रहे तेरी 
उम्मीदों का आसमां, 
तेरे अरमानो की जमीं पे, 
न कभी पानी फिरे।।  

11 comments:

  1. बहुत सुंदर, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर लिखा है। बढ़िया आरजू है।

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब..क्या कहने।

    ReplyDelete
  4. वह गोदियाल जी , बहुत खूब लिखा है।
    हमराह होना भी गुमराह होना हो जाता है ।

    ReplyDelete
  5. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार(15-6-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  6. सचमुच.. बहुत सुन्दर....

    ReplyDelete
  7. मन की आरजू के सुन्दहरी पंख ...
    सुन्दर लिखा है ...

    ReplyDelete

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना !

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना ! (New concept of 'seating arrangement' in Metro coaches ! ) ...