Monday, June 24, 2013

प्रभु, चाह न रही मुझे अब तीरथ की।


Image result for uttarakhand disaster

देखी ऐसी जो गत, 
तेरे दर,सत-पथ की,
प्रभु,चाह न रही, 
मुझे अब तीरथ की।

धाम तेरे आने की,
जो थी मन अभिलाषा,
दुखियारे जन को,
देते ख़त्म हुई दिलासा। 

हुई खण्डित धुन,
जोश,मुराद,मनोरथ की,
प्रभु,चाह न रही, 
मुझे अब तीरथ की।

पुण्य-सफर दुष्कर होगा,

अनजाने थे वो, 
वैकुण्ठ में पग धारण को 

दीवाने थे वो। 
   
खिले-अधखिले सब ही 

लील गई नदिया,
कुम्पित-मुरझाए से,

बचे फूल हैं बगिया। 

थर-थर कांपी तो होगी,

रूह भगीरथ की,
प्रभु,चाह न रही, 
मुझे अब तीरथ की।

उन्हें इल्म न था, 

जाकर तेरे द्वारे,
वक्त भी दे जाएगा 

उन्हें जख्म करारे। 

लुटेगी लाज प्रांगण 

तेरे, नथ-नथ की,   
प्रभु,चाह न रही, 
मुझे अब तीरथ की।

बनकर तलवार,

छड़ी कुदरत की घूमी,
विध्वंसित हो गई, 

जो थी देव-भूमि।  

घुले ही जा रही, 

बेकली मन-मथ की,
प्रभु,चाह न रही, 
मुझे अब तीरथ की।

16 comments:

  1. दुखद अध्याय, आस्था के पग पर।

    ReplyDelete
  2. बहुत ही दुखद..............

    रामराम.

    ReplyDelete
  3. आस्था बस एक दुखद घटना,,,,सुंदर प्रस्तुति,,,

    Recent post: एक हमसफर चाहिए.

    ReplyDelete
  4. अत्यंत भावपूर्ण अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  5. अब तो लोग जाने से पहले दस बार सोचेंगे ...

    ReplyDelete
  6. आपकी यह रचना कल मंगलवार (25 -06-2013) को ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    ReplyDelete
  7. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार२ ५ /६ /१ ३ को चर्चा मंच में राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहां हार्दिक स्वागत है ।

    ReplyDelete
  8. आपने सब कुछ शब्दों में ढाल कर उकेर दिया , मनोस्थिति से लेकर वस्तुस्थिति तक सब कुछ रख दिया इस रचना के माध्यम से

    ReplyDelete
  9. भावपूर्ण -
    आभार आदरणीय-
    वापस धनबाद आ गया हूँ-
    सादर-

    ReplyDelete
  10. किसी का भी ह्रदय टूट जाएगा ये सब देख!आस्था भी डांवाडोल हो ही जाती है कुछ समय के लिए!

    कुँवर जी,

    ReplyDelete
  11. उत्क्रुस्त , भावपूर्ण एवं सार्थक अभिव्यक्ति .

    ReplyDelete
  12. अपना दोष ईश्वर के सर
    इंसान क्यों है इतना तंगनज़र|
    क्या सिर्फ कुछ पाने की इच्छा से थी भक्ति,
    नहीं थी आस्था, बस आसक्ति |
    कष्टों के एक झटके से ही टूट जाए-
    वह अनास्था,
    आस्था कब कहलाये|

    ReplyDelete
  13. जनता आस्था और अनास्था के बीच में झूल रहे हैं .आस्था पर बल देने वालों के पास भी कोई जवाब नहीं.-अच्छी रचना
    latest post जिज्ञासा ! जिज्ञासा !! जिज्ञासा !!!

    ReplyDelete
  14. बेहद दु:खद .......आस्था और अनास्था के बीच हज़ारों सवाल मन में डोल रहे हैं .....प्रभु के लीला न्यारी है ...कोई नहीं जानता कब क्या हो जाय ..

    ReplyDelete
  15. दुखद है जो हुआ ... पर इसमें क्या प्रभू का दोष
    समय समय पे वो अपनी उपस्थिति का एहसास कराता है ... पर ऐसे एहसास कराएगा पता न था ...

    ReplyDelete

ब्लॉगिंग दिवस !

जब मालूम हुआ तो कुछ ऐसे करवट बदली, जिंदगी उबाऊ ने, शुरू किया नश्वर में स्वर भरना, सभी ब्लॉगर बहिण, भाऊ ने,  निष्क्रिय,सक्रिय सब ...