Thursday, October 18, 2012

छिटपुट !

छल-फ़रेबी से 
बुन के रखते है वो 
हर याद अपनी,
मगर जब जिक्र करो 
तो कहते है,ये बे-बुनी-याद है ! 











जब कभी मौक़ा मिलेगा,
वो तुझे चूसकर फेंक देगा,
इसलिए ऐ आम, 
आदमी की इस कदर  दुहाई न दे !



12 comments:

  1. उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  2. Very soon the time will show them, their real place. Let them live in their pseudo paradise.

    ReplyDelete
  3. Great Nice one



    http://rohitasghorela.blogspot.com/2012/10/blog-post_17.html

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  5. ये लो , हमने भी यही कहा आम नहीं , ख़ास !होना है

    ReplyDelete
  6. @प्रेम-सरोवर जी ,
    आपसे इस बात के लिए माफी चाहूँगा कि मैं जब स्पैम में पड़े कुछ कॉमेंट उठा रहा था तो गलती से आपका कोमेंट मुझसे डिलीट हो गया !

    ReplyDelete
  7. बेबुनियाद की भी कभी-न-कभी बुनियाद अवश्य पड़ी होगी......बेहतर कटाक्ष....

    ReplyDelete
  8. आम आदमी ऐसे ही चूसा जायेगा.

    ReplyDelete