Tuesday, October 25, 2022

मेरी अभिलाषा दिवाली पर लक्ष्मी जी के समक्ष प्रस्तुत..

 हे माते 🙏,

इस दिवाली थोडा सा

अपुन को भी "Gift" कर दे,

आप तारणहार हो,

अपने इस भक्त का 'Stock' भी,

थोडा सा "Uplift" कर दे।

क्योंकि ये "Beggar" वर्षो से

शेयर के "Multibagger"

बनने की आश मे,

भावनाओं मे बह गया है,

तमाम बोझ तले दबकर

"Stagger" बनकर रह गया है।


2 comments:

लघुकथा- क्षीण संप्रत्यय !

अकेली महिला और उसके साथ उसके दो नाबालिग बेटे, अरुण और वरुण। मेरे मुहल्ले मे मेरे घर से कुछ ही दूरी पर एक तीन मंजिला बडे से मकान के एक छोटे स...