Wednesday, February 13, 2013

तोहमत न दे, दीपक जला !
















कर दुआ यही खुदा से,हो सबका भला,
तिमिर को तोहमत न दे, दीपक जला।

घटता समक्ष जो, उससे न अंविज्ञ बन,
मूकता तज मूढ़ता,अज्ञ है तो सुज्ञ बन।
प्रज्ञता प्रकाश फैले,जिधर भी पग चला,
तिमिर को तोहमत न दे, दीपक जला।

मृदु-शिष्ट बर्ताव से नेह,स्नेह अपार ले,
तृण-तृण समेटकर, जिन्दगी संवार ले।
कलसिरी को अनुराग, उत्सर्ग से गला,
तिमिर को तोहमत न दे, दीपक जला।

दांपत्य-जीवन में छुपा न कोई राज हो,
युग्मन नेक हो,तारिणी न दगाबाज हो।
पाया क्या,निराश्रय होकर जो कर मला,
तिमिर को तोहमत न दे, दीपक जला।

बुनियाद सम्बन्धों की न खिंड-मिंड हो,
अनुयोजन से कोई, तृन्ढ़ न हृत्पिंड हो।
नागकनी पुष्प से,सीख जीने की कला,
तिमिर को तोहमत न दे, दीपक जला। 


रख निरन्तर जोड़े,अपने को जमीन से,
विलग न कर कभी सत्य को यकीन से।
कंट-पथरीला है पथ, हर बला को टला,
तिमिर को तोहमत न दे, दीपक जला।

हो मन न कुलषित एवं दृष्टि में न हेय हो,
निष्काम,निःसंग भाव,परमार्थी ध्येय हो।
इंसां तो क्या,धूप को भी अंधेरों ने छला,
तिमिर को तोहमत न दे, दीपक जला।
  

तिमिर=darkness तोहमत=cursing सुज्ञ=intelligent प्रज्ञता=knowledge कलसिरी=quarrelsome lady उत्सर्ग=devotion खिंड-मिंड=unplaced अनुयोजन=action, तृन्ढ़=hurt हृत्पिंड=heart    नागकनी=cactus  निष्काम,निःसंग=unbiased          

12 comments:

  1. बहुत सुंदर दृढ़ भाव और उत्कृष्ट रचना ...!!
    शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  2. बिलकुल सही लताड़-
    तोहमत मत दे-
    दीपक जला-
    सादर--

    ReplyDelete
  3. तिमिर को तोहमत न दे, दीपक जला

    अत्यंत सार्थक रचना, बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  4. प्रेरक और सार्थक रचना !!

    ReplyDelete
  5. मात्र शिकायत न करते हुये कुछ करने को प्रेरित करती सुंदर रचना ...

    ReplyDelete
  6. आपकी पोस्ट 14 - 02- 2013 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें ।

    ReplyDelete

  7. दांपत्य-जीवन में छुपा न कोई राज हो,
    युग्मन नेक हो,तारिणी न दगाबाज हो।
    पाया क्या,निराश्रय होकर जो कर मला,
    तिमिर को तोहमत न दे, दीपक जला।

    बहुत खूब!सुंदर सार्थक रचना,बधाई गोदियाल जी


    RECENT POST... नवगीत,

    ReplyDelete
  8. तिमिर को तोहमत न दे, दीपक जला।
    ye pankti hi bahut khoobsoorat likhi hai...

    ReplyDelete
  9. दांपत्य-जीवन में छुपा न कोई राज हो,
    युग्मन नेक हो,तारिणी न दगाबाज हो।
    पाया क्या,निराश्रय होकर जो कर मला,
    तिमिर को तोहमत न दे, दीपक जला ...

    ये सच कहा आपस में की राज नहीं रहना ही अच्छे दाम्पत्य की निशानी है ...सार्थक ...

    ReplyDelete
  10. तनिक सा बढ़,
    जो लिखा, पढ़,
    बिन किये हत,
    स्वप्न मत गढ़।

    ReplyDelete
  11. बहुत ही खूबसूरत रचना, शब्द संयोजन और भाव कमाल का तादात्म्य है ।

    ReplyDelete
  12. यह है न रचना ...
    बधाई !

    ReplyDelete

ब्लॉगिंग दिवस !

जब मालूम हुआ तो कुछ ऐसे करवट बदली, जिंदगी उबाऊ ने, शुरू किया नश्वर में स्वर भरना, सभी ब्लॉगर बहिण, भाऊ ने,  निष्क्रिय,सक्रिय सब ...