Friday, February 1, 2013

मैं जिन्दगी का साथ निभाता चला गया !











जो गए, कुछ राम प्यारे गए, 

तो कुछ अली के दुलारे गए,

चिरकाल यहाँ ठहरा कोई,

जितने थे ,सारे के सारे गए।



फिर कोई गुल न साखे रहा,

कोई फल गुलशन बचा , 

'माले-मुफ्त-दिले बेरहम',

गुलफाम मुफ्त में मारे गए। 


माले-मुफ्त,दिले बेरहम' = हरामखोर 

चित्र नेट से साभार !

15 comments:

  1. Replies
    1. मैडम कृपया मुझसे संपर्क करें ।मैं नसीब सभ्रवाल ,अक्की, पानीपत से।9716000302

      Delete
  2. वाह वाह ! क्या बात है ! किसकी तस्वीर है ये ? :)

    ReplyDelete
  3. अच्छे चित्र |
    अच्छे शब्द-चित्र ||

    ReplyDelete
  4. सारी गलियां बंद हैं, सब कातिक में खेत |
    काशी के भैरव विवश, गायब शिव-अनिकेत |
    गायब शिव-अनिकेत, चलो बैठकी जमायें |
    रविकर ना परचेत, दिखें हैं दायें-बाएं |
    जय बाबा की बोल, ढारता पारी पारी |
    करके बोतल ख़त्म, कहूँगा आइ'म सॉरी ||

    ReplyDelete
  5. सब चित्र ही बखान रहा है..

    ReplyDelete
  6. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    ReplyDelete
  7. मुफ्तखोरों की कोई कमी नहीं ..गटके जाओ बस...
    बहुत खूब..

    ReplyDelete
  8. हा हा... बहुत बढ़िया है.. चित्र तो बहुत ही खोजकर लगाया है.

    ReplyDelete
  9. जय बाबा की बोल,ढारता पारी पारी |
    करके बोतल ख़त्म,कहूँगा आइ'म सॉरी ||
    इस रचना के लिये,,,रविकर जी की सटीक टिप्पणी,

    RECENT POST शहीदों की याद में,

    ReplyDelete
  10. मुद्दे यार किसके खाए पिए खिसके .

    ReplyDelete
  11. जाना सभी ने है ... इसलिए मत रहो ...

    ReplyDelete
  12. बहुत ही सही कहा आपने.

    पर रामप्यारे तो अभी तक हमारे पास है.:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  13. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति आज शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete

मिथ्या

सनक किस बात की,  जुनून किस बात का? पछतावे की गुंजाइश न हो,  शुकून किस बात का?