Sunday, September 25, 2022

पता, क्या पता..?

इस मानसून की विदाई पर, 

जो कुछ मौसमी प्रेम बीज तू ,

मेरे दिल के दरीचे मे बोएगी,

यूं तो खास मालूम नहीं , मगर

यदि वो अंकुरित न हुए तो 

इतना पता है कि तू बिजली बुझाकर, 

अ़ंधेरे मे  फूट-फूट के रोएगी।

#बरसातीप्यार  😀😀



7 comments:

  1. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार(२६-०९ -२०२२ ) को 'तू हमेशा दिल में रहती है'(चर्चा-अंक -४५६३) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    ReplyDelete
  2. वाह.बहुत खूब

    ReplyDelete
  3. ओह! अद्भुत।
    बहुत सुंदर।

    ReplyDelete
  4. आभार, आप सभी ब्लॉग मित्रों का🙏

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुन्दर रचना

    ReplyDelete

लघुकथा- क्षीण संप्रत्यय !

अकेली महिला और उसके साथ उसके दो नाबालिग बेटे, अरुण और वरुण। मेरे मुहल्ले मे मेरे घर से कुछ ही दूरी पर एक तीन मंजिला बडे से मकान के एक छोटे स...