Tuesday, July 28, 2020

आरजू

गर सुधार न हो पाये तो
 तुम माफ कर देना,
हर उस किये को,
कसूर चाहे बाती का हो
या तेल की गुणवत्ता का,
नहीं मालूम, मगर तुम
दोष मत देना, दीये को।

8 comments:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 30.7.2020 को चर्चा मंच पर दिया जाएगा। आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी|
    धन्यवाद
    दिलबागसिंह विर्क

    ReplyDelete
  2. वाह बहुत सुंदर क्षणिका सार्थक भावपूर्ण।

    ReplyDelete

देवनगरी,"अष्टचक्रा नवद्वारा देवानां पूरयोध्या"

जन्मस्थली मुक्त हो गई, दैत्य कारावास से, श्रीराम लौटेंगे अवध, आज फिर वनवास से। दीपों से जगमगा उठे हैं, निर्मल सरयू के तट, सजने लगे फिर दोबार...