Monday, November 23, 2020

लोन औन फोन...

 ऐ साहुकार, तु कर न 

वसूली की तकरार,

मुझे दिए हुए लोन पे,


मन्ने तो मांगा नी था,

लोन देने का कौल 

तेरा ही आया था 

भैया, 

मेरे फोन पे ।

1 comment:

नश्तर..

उधर सामने खडे थे संस्कार, बनकर के मेरे पहरेदार, संकुचायी सी मैं कुछ बोली नहीं, तुम हरगिज़ इसे गलत मत समझना, इत्तेफ़ाक़न , मैं इतनी भी भोली नह...