Tuesday, January 10, 2012

हद-ए-गुजर !

16 comments:

  1. वाह वाह गोदियाल जी !
    बहुत बढ़िया शे'र कहा है ।

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सटीक भाव..बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    शुक्रिया ..इतना उम्दा लिखने के लिए !!

    ReplyDelete
  3. गज़ब के शे'र ……………सभी एक से बढकर एक्

    ReplyDelete
  4. खुदी को कर बुलंद इतना.......:)

    ReplyDelete
  5. Vaah .. Juda sa andaaz hai ....
    Par lajawab hai ..

    ReplyDelete
  6. वाह बहुत बढ़िया!
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  7. आह से वाह तक की सैर कराती प्रस्तुति....
    शानदार....!
    राम राम जी,
    कुँवर जी,

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया प्रस्तुति| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  9. ला ... ज ... वा .... ब ...

    ReplyDelete

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना !

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना ! (New concept of 'seating arrangement' in Metro coaches ! ) ...