Tuesday, January 10, 2012

हद-ए-गुजर !

16 comments:

  1. वाह वाह गोदियाल जी !
    बहुत बढ़िया शे'र कहा है ।

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सटीक भाव..बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    शुक्रिया ..इतना उम्दा लिखने के लिए !!

    ReplyDelete
  3. गज़ब के शे'र ……………सभी एक से बढकर एक्

    ReplyDelete
  4. खुदी को कर बुलंद इतना.......:)

    ReplyDelete
  5. Vaah .. Juda sa andaaz hai ....
    Par lajawab hai ..

    ReplyDelete
  6. वाह बहुत बढ़िया!
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  7. आह से वाह तक की सैर कराती प्रस्तुति....
    शानदार....!
    राम राम जी,
    कुँवर जी,

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया प्रस्तुति| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  9. ला ... ज ... वा .... ब ...

    ReplyDelete

ब्लॉगिंग दिवस !

जब मालूम हुआ तो कुछ ऐसे करवट बदली, जिंदगी उबाऊ ने, शुरू किया नश्वर में स्वर भरना, सभी ब्लॉगर बहिण, भाऊ ने,  निष्क्रिय,सक्रिय सब ...