Wednesday, April 29, 2020

लॉकडाउन को-रोना की घरेलू हिंसा।



गलियां सब वीरां-वीरां सी, उखड़े-उखड़े सभी खूंटे है,
तमाशाई बने बैठे दो सितारे, सहमे-सहमे क्यों रूठे है। 

डरी सी सूरत बता रही,बिखरे महीन कांच के टुकडो की,
कुपित सुरीले कंठ से कहीं कुछ, कड़क अल्फाज फूटे है। 

ताफर्श पर बिखरा चौका-बर्तन, आहते पडा चाक-बेलन,
इन्हें देखकर भला कौन कहेगा कि ये बेजुबाँ सब झूठे है। 

पटकी जा रही हर चीज, जो पड़ जाए कर-कमल उनके,  
वाअल्लाह, बेरुखी-इजहार के उनके, अंदाज ही अनूठे है। 

तनिक शुश्रुषा की कमी 'परचेत',मनुहार मिलाना भूल गए,
फकत इतने भरसे बदन के सारे, सुनहरे तिलिस्म टूटे है। 


6 comments:

  1. सादर नमस्कार,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा शुक्रवार (01-05-2020) को "तरस रहा है मन फूलों की नई गंध पाने को " (चर्चा अंक-3688) पर भी होगी। आप भी
    सादर आमंत्रित है ।

    "मीना भारद्वाज"

    ReplyDelete
  2. अपने ऊपर का कंट्रोल ही खो बैठे, खिसियानी बिल्ली बना डाला लॉकडाउन ने .

    ReplyDelete
  3. वाह !लाजवाब अभिव्यक्ति आदरणीय सर.
    सादर

    ReplyDelete
  4. This lockdown people are getting frustrated and certainly odd things will happen. Keeping the most deserving candidate of your house busy is the job of school through online and assignment. best international school in Mumbai.

    ReplyDelete

यकीं !

  तु ये यकीं रख,  उस दिन  सब कुछ ठीक हो जायेगा, जिस दिन, जिंदगी का  परीक्षा-पत्र 'लीक' हो जायेगा।