Tuesday, December 4, 2012

कार्टून कुछ बोलता है- पैरेंट्स व्यथा !


10 comments:

  1. आयर-लैंडी भ्रूण हो, हो असमय नहिं मौत ।

    बचपन बीते नार्वे, मातु-पिता गर सौत ।

    मातु-पिता गर सौत, हेकड़ी वहां भुला दे ।

    यू के में पढ़ युवा, सेक्स ब्राजील खुला दे ।

    शादी भारत आय, सके नहिं लेकिन कायर ।

    बिता बुढापा जाय, सही सबसे है आयर ।।

    ReplyDelete
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    ReplyDelete
  3. :):) अब बच्चे ऐसे ही धमकाने वाले हैं ।

    ReplyDelete
  4. वहां जाकर बच्चे नहीं , पेरेंट्स को सुधारना पड़ेगा. :)

    ReplyDelete
  5. दराल साहब की बात सही है, नॉर्वे मे तो माँ-बाप का ही इलाज हो रहा है

    ReplyDelete
  6. :-)

    मरना थोड़े ही है!

    ReplyDelete
  7. बच्चे न जाने कब से जिद कर रहे हैं।

    ReplyDelete

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना !

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना ! (New concept of 'seating arrangement' in Metro coaches ! ) ...