Saturday, February 16, 2013

कार्टून कुछ बोलता है- भैस की औकात !















खबर ndtv के सौजन्य से साभार !  

8 comments:

  1. हा हा हा -
    हा हा हा -
    क्षमा सहित-

    कैसा भैंसा किस तरफ, दाएँ बाएँ बोल |
    दृष्टि-दोष जग को हुआ, लगता किसका मोल |
    लगता किसका मोल, लगे दोनों ही तगड़े |
    नीयत जाए डोल, कहीं होवे ना झगड़े |
    राम राम हे मित्र, मिले गर ग्राहक ऐसा |
    बिना मोल बिक जाय, स्वयं से रविकर भैंसा |

    ReplyDelete
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    ReplyDelete
  3. :):) अब तो अपनी औकात दो कौड़ी की भी नहीं है ॥

    ReplyDelete
  4. कौन पार्टी का समर्थक है ये भैंसा .

    ReplyDelete
  5. अपने से तो ये भैंसा ही अच्छा, प्रणाम इस महिषासुर को .:)

    ReplyDelete
  6. कहाँ से आया था ये भैंसा ... किसने पाल पास के इसे इस लायक बनाया ...

    ReplyDelete
  7. भैंसा करोड़ का और हम कौड़ियों के मोल ..

    ReplyDelete
  8. महिषासुर मर्दनी को लाओ .

    ReplyDelete

ब्लॉगिंग दिवस !

जब मालूम हुआ तो कुछ ऐसे करवट बदली, जिंदगी उबाऊ ने, शुरू किया नश्वर में स्वर भरना, सभी ब्लॉगर बहिण, भाऊ ने,  निष्क्रिय,सक्रिय सब ...