Tuesday, February 5, 2013

ये ख्याल अच्छा है !

















व्यथित भीगी सी डगर, 
कुछ हर्षौल्लास लेते है, 
कोई परेशानी, कोई और 
झमेला तलाश लेते हैं।  

महसूस न हो संघर्ष के 
पथरीले रास्तों की तंगी,
चलो, कोई और पर्वत, 
कोई शिला तराश लेते हैं। 

पथिक लेता क्षणिक सुख,
देख महुए की तरुणाई,   
किंतु कुसुम सुहास तो गमहर,
तेंदू,पलाश लेते है। 
    
उठान भरी राह कहीं 
बोझ न बन जाये जिन्दगी, 
क्यों न 'परचेत' इसको 
कुछ यूं ही खलाश लेते है।    

22 comments:

  1. चार-शेरी ग़ज़ल पढ़कर मजा आ गया!
    आभार!

    ReplyDelete
  2. वाह वाह वाह-
    बड़े तराशे शब्द हैं, सुन्दर भाव तलाश |
    जब पलाश खिलते मिलें, हो बसंत उल्लास ||

    बधाई भाई जी ||

    ReplyDelete
  3. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    ReplyDelete
  4. पर्बत से ऊँचा ,,,खुबसूरत ख्याल भाई जी .....
    महसूस न हो संघर्ष के पथरीले रास्तों की तंगी,
    चलो, कोई और पर्वत, कोई शिला तराश लेते हैं।
    वाह!

    ReplyDelete
  5. जी हां ख्याल वाकई अच्छा है.

    ReplyDelete
  6. भावपूर्ण तरासे शब्दों की बहुत उम्दा गजल,,,बधाई

    RECENT POST बदनसीबी,

    ReplyDelete
  7. आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा बुधवार (06-02-13) के चर्चा मंच पर भी है | जरूर पधारें |
    सूचनार्थ |

    ReplyDelete
  8. बहुत ही उम्दा ग़ज़ल।

    ReplyDelete
  9. अप्रतिम शब्द संरचना! अत्यधिक सुन्दर भाव! अतुलनीय रचना!
    http://voice-brijesh.blogspot.com

    ReplyDelete
  10. महसूस न हो संघर्ष के पथरीले रास्तों की तंगी,
    चलो, कोई और पर्वत, कोई शिला तराश लेते हैं। ..

    बहुत खूब ... अपने आप बनाया रास्ता संघर्ष नहीं लगता ...

    ReplyDelete
  11. क्या शिला तलाशी है !
    बेहतरीन।

    ReplyDelete
  12. महसूस न हो संघर्ष के पथरीले रास्तों की तंगी,
    चलो, कोई और पर्वत, कोई शिला तराश लेते हैं।
    ये पंक्तियाँ ख़ास लगीं!
    अच्छी कविता.
    ..
    चित्र भी हट कर ही है और डरावना भी!क्या वाकई ऐसी कोई जगह है?

    ReplyDelete
  13. आपका लेख/आपकी कविता निर्झर टाइम्स पर लिंक की गयी है। कृपया इसे देखें http://nirjhar-times.blogspot.com और अपने सुझाव दें।

    ReplyDelete
  14. अल्पना जी, चित्र में मौजूद शिला का निचला हिसा तो असली है किन्तु ऊपरे हिसा ( जिसमे मंदिर है ) नकली है !

    ReplyDelete
  15. कुछ कर ले जाने के जज्बे से भरपूर बहुत ही सुन्दर
    ग़ज़ल ! शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  16. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 07-02 -2013 को यहाँ भी है

    ....
    आज की हलचल में .... गलतियों को मान लेना चाहिए ..... संगीता स्वरूप

    .

    ReplyDelete
  17. 'चलो, कोई और पर्वत, कोई शिला तराश लेते हैं।'
    विशाल शिलाखंड के नीचे यह आश्रय-स्थल.तराशने की कल्पना शायद यहीं से आई है !

    ReplyDelete
  18. खुबसूरत ग़ज़ल, सुन्दर भाव

    ReplyDelete

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना !

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना ! (New concept of 'seating arrangement' in Metro coaches ! ) ...