Wednesday, February 9, 2011

इश्क जिस रोज हुस्न की मजबूरी समझ लेगा !
















इश्क जिस रोज हुस्न की मजबूरी समझ लेगा,
प्रेम उस रोज अपनी तपस्या पूरी समझ लेगा।


छलकते लबों से कभी कोई तबस्सुम न बहे,
पैमाना प्यार का इसको  रूरी समझ लेगा। 


मन ख्वाइशों को मचलने की गुंजाइश न दे,
पलकें झुकाना भी हवस मंजूरी समझ लेगा। 


तसदीक प्यार में हुस्न, अंजाम से क्या डरे,
धड़कन जवाँ दिलों की हर दूरी समझ लेगा। 


हुस्न जागता रहे  अगर  इंतज़ार-ए-इश्क में,
प्रीत की  गजल 'परचेत', अधूरी समझ लेगा।




20 comments:

  1. @अगर हुस्न जागता रह गया इंतज़ार-ए-इश्क में,
    प्रीत की ये गजल 'परचेत', अधूरी समझ लेगा।

    वाह गोदियाल साहब! बहुत दिनों के बाद यह रंग देखने मिला।
    अब लगा कि वास्तव में बसंत आ गया है।

    आभार

    ReplyDelete
  2. बेहद खूबसूरत... बेहतरीन!

    ReplyDelete
  3. गर दिल,ख्वाइशों को मचलने की वजह ही न दे,
    पलक झुकाने को ना हवस मंजूरी समझ लेगा।

    वाह... बेहतरीन...

    ReplyDelete
  4. यही मजबूरी तो समझ से निकल जाती है,
    क्या कहें, आते आते शाम ढल जाती है।

    ReplyDelete
  5. प्रवीण जी, आज ड्राई-डे नहीं है :)

    ReplyDelete
  6. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (10/2/2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    ReplyDelete
  7. वाह गोदियाल साहब वाह, मजा आगया.

    रामराम

    ReplyDelete
  8. गर दिल,ख्वाइशों को मचलने की वजह ही न दे,
    पलक झुकाने को ना हवस मंजूरी समझ लेगा।
    बेहद खूबसूरत... बेहतरीन!

    ReplyDelete
  9. गर दिल,ख्वाइशों को मचलने की वजह ही न दे,
    पलक झुकाने को ना हवस मंजूरी समझ लेगा।
    क्या बात है गोदियाल जी ।
    एक अलग अंदाज़ ।

    ReplyDelete
  10. बेहतरीन गजल। इस गजल को पढकर दो लाईनें याद आ गईं,
    'या रब मुझे महफूज रख उस बुत के सितम से,
    मैं उसकी इनायत का तलबगार नहीं हूं।'

    ReplyDelete
  11. बहुत खुबसुरत गजल जी धन्यवाद

    ReplyDelete
  12. इश्क जिस रोज हुस्न की मजबूरी समझ लेगा,
    प्रेम उसी रोज अपनी तपस्या पूरी समझ लेगा।
    बेहतरीन गज़ल

    ReplyDelete
  13. वाह वाह , क्या मजेदार भाव हैं,

    ReplyDelete
  14. गंभीर बात को सहज ढंग से अभिव्यक्त किया है.

    ReplyDelete
  15. behad khubsurat....abhiwyakti,,aabhar

    ReplyDelete