Thursday, March 28, 2013

सच में , दुनिया देखिये कितनी छोटी हो गई !

कल अमेरिकी न्यूज़ एजेंसी सीएनएन की वेब-साईट पर यह रोचक खबर पढी थी, सोचा अपने ब्लॉग पर भी क्यों न इसे शेयर किया जाए। होली का पर्व होने  की वजह से तुरंत इस सम्बन्ध में लिख नहीं पाया था, सो आज यहाँ शेयर कर रहा हूँ ; 
खबर यह थी कि  हवाई में गुम हुआ कैमरा  ताइवान में मिला। 

हवाई द्वीप अमेरिका का प्रशांत महासागर के मध्य में स्थित एक प्रान्त है। यह अमेरिका का अकेला द्वीप है जो पूरी तरह द्वीपों से ही बना हुआ है और हवाई द्वीप समूह के अधिकांश द्वीप इसी प्रांत में सम्मिलित हैं। हवाई के आठ मुख्य द्वीप हैं, जो उत्तरपश्चिम से दक्षिणपूर्व में एक पंक्ति पर बिछे हैं। इन आठ द्वीपों के नाम हैं (उत्तरपश्चिम से शुरू होते हुए) - निइहाऊ, काउआइ, ओआहू, मोलोकाइ, लानाइ, काहोओलावे, माउइ और हवाई। इनमें हवाई का द्वीप सबसे बड़ा है।  
कुछ ही ऐसे भाग्यशाली लोग होते है जिन्हें अपनी यात्रा के दौरान गुम  हुई कोई प्रिय वस्तु  पुन: वापस मिलने का सौभाग्य प्राप्त होता है। और ऐसी ही एक भाग्यशाली पर्यटक हैं अमेरिका की लिंड्से कृम्ब्ले स्कैल्लन, जिन्हें अभी हाल में यह सौभाग्य प्राप्त हुआ कि अगस्त २० ० ७  में मौली बीच, हवाई में रात को समुद्र में डुबकी लगाने के दौरान जो उनका प्रिय कैमरा गुम हो गया था, वह तैरता हुआ करीब पांच हजार किलोमीटर की समुद्री यात्रा तय करता हुआ साढ़े पांच साल में ताइवान के पूर्वी तट तैतुंग पर जा पहुचा।  और जिसे वहां से चीनी एयरलाइन्स  के दो कर्मचारियों डगलस चेंग और टीम चौंग ने पाया। इसमें चौंकाने वाली और मजेदार बात यह थी कि कैमरा बैटरीज और मेमोरी कार्ड अभी भी सही ढंग से  काम कर रहे थे। 

चीनी एयर लाइन्स के इन कर्मचारियों ने बारीकी से फोटुओं का अध्ययन किया तो  उन्हें कैमरे की बादबानी में 'तेरालानी ३'  लिखा मिला। जिसकी आगे खोज करने पर यह कैमरा मौली द्वीप का रजिस्टर्ड  हुआ मिला।  अब ताइवान एयर लाइन्स  ने फेसबुक पर  एक पेज बनाया जिसमे उन्होंने लिंड्से स्कैल्लन  की फोटो भी डाली और पेज को नाम दिया, "चाइना एअरलाईन्स आपको ढूढ़ रही है"   और दो दिन बाद ही एयरलाइन्स को  लिंड्से स्कैल्लन यानि कैमरे की असली मालकिन मिल गई। 

खबर सी एन एन से साभार !
            

16 comments:

  1. किस्मत के साथ साथ चाईना एयरलाईंस के कर्मचारियों की नेकख्याली भी सराहनीय है.

    हमारे यहां तो घर से चीज गुम होजाये तब भी ना मिले, फ़िर बाहर की तो बात ही क्या है?:)

    रामराम.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया ताऊ मेरे इस जलनखोर दिल को थोड़ी ठंडक पहुंचाने के लिए, मेरे मन की बात कही आपने !

      Delete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शुक्रवार के  चर्चा मंच-1198  पर भी होगी!
    सूचनार्थ...सादर!
    --
    होली तो अब हो ली...! लेकिन शुभकामनाएँ तो बनती ही हैं।
    इसलिए होली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  3. आंख से काजल चुराने वाले तक मौजूद हैं. अजब दुनिया.

    ReplyDelete
  4. दिलचस्प जानकारी.
    वर्षों बाद टाइटेनिक के जीवन्त अवशेष मिलने जैसी.

    ReplyDelete
  5. जाको रखे साइयां -- गुम सके ना होय !

    ReplyDelete
  6. चौंकाने वाली खबर ...भाई जी !
    शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  7. वाह,लगा जैसे कोई अनहोनी घट गई !

    ReplyDelete
  8. beshak,utsukta avm kautuhal se bhari prastuti

    ReplyDelete
  9. जाको राखे ..
    रोचक रहा आलेख

    ReplyDelete
  10. वाह ! फ़ौरन ही कैमरा कंपनी को ई पूरा इश्टोरी को अपना नयका विज्ञापन के लिए हथिया लेना चाहिए :)

    ReplyDelete
  11. Very interesting and unbelievable ! Lucky lady indeed.

    ReplyDelete
  12. वाह, बड़ी रोचक घटना।

    ReplyDelete
  13. खो हुई वस्‍तु लौटानेवालों की इच्‍छाशक्ति सराहनीय है। और आपकी अपने ब्‍लॉग पर यह रिपोर्ट डालने की इच्‍छाशक्ति भी उल्‍लेखनीय है।

    ReplyDelete

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना !

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना ! (New concept of 'seating arrangement' in Metro coaches ! ) ...