Monday, March 25, 2013

गोदियाल ढाबा !













हुए प्यार में तेरे दिवाने ऐसे,
सड़क पर ही आ गए हम,अरे बाबा,
उधार का खिलाते कब तक तुमको,
इसलिए खुद ही खोल दिया ढाबा !
अब बना-बनाके पकवान अनेकों, 
इतना खिलाएंगे तुमको, 
जो तूम भी बोल उठो;   
तेरे ढाबे का खा के, मैं बदरंग हो गई,  
कल चोली सिलाई आज तंग हो गई, 
और हम बोलेंगे;,
कुड़ी के नखरे, ओए शाबा, ओए शाबा !!   

24 comments:

  1. अभी सड़क पे पूरे कहां आए हो, जब ढाबा भी विक जाएगा तीे बता बनेगी ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. भाई साहब, अब क्या चाहते हो ? :) होली की हार्दिक शुभकामनाए !

      Delete
  2. गोदियाल भाई ....होली की मुबारक |
    ढाबे की बधाई ,,हो मनचाही कमाई :-)))

    ReplyDelete
    Replies
    1. सलूजा साहब !आपको भी होली की हार्दिक शुभकामनाए !

      Delete
  3. शानदार लाजवाब...होली की मस्ती चढी है?:)

    होली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
    Replies
    1. ताऊ जी, आपको भी होली की हार्दिक शुभकामनाए !

      Delete
  4. हा हा हा जोरदार, पर ढाबे का पता तो दे देते

    ReplyDelete
  5. सड़क पते वाली नहीं है :)
    ललित जी आपको भी होली की हार्दिक शुभकामनाए !

    ReplyDelete
  6. होली की ये है मस्ती भरी बोली।

    ReplyDelete
    Replies
    1. होली पर्व की हार्दिक शुभकामनाए !

      Delete
  7. वाह ... आ गए आप भी मस्ती के मूड में ...
    फ्री की खिला रहे हैं ... हम भी आते हैं ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्वागत है नाशवा साहब, जानता हूँ कि इस साल आपके लिए होली का त्यौहार फीका ही है फिर भी आपको होली पर्व की हार्दिक शुभकामनाए !

      Delete
  8. होली में ढाबा खोलने और खिलाने की बधाई,,

    Recent post : होली में.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको भी होली पर्व की हार्दिक शुभकामनाए, धीरेन्द्र जी !

      Delete
  9. आलू परांठा , पनीर परांठा , गोभी परांठा और भांग परांठा !
    वाह वाह गोदियाल ढाबा !

    ReplyDelete
    Replies
    1. और साथ में बथ्वे का रायता भी डा० साहब !आपको भी होली पर्व की हार्दिक शुभकामनाए!

      Delete
  10. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    रंगों के पर्व होली की बहुत-बहुत हार्दिक शुभकामंनाएँ!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको भी होली पर्व की हार्दिक शुभकामनाए!

      Delete
  11. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल 26/3/13 को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका स्वागत है ,होली की हार्दिक बधाई स्वीकार करें|

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार राजेश जी !आपको भी होली पर्व की हार्दिक शुभकामनाए!

      Delete
  12. वाह! बहुत खूब...होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको भी होली पर्व की हार्दिक शुभकामनाए!

      Delete

लघुकथा- क्षीण संप्रत्यय !

अकेली महिला और उसके साथ उसके दो नाबालिग बेटे, अरुण और वरुण। मेरे मुहल्ले मे मेरे घर से कुछ ही दूरी पर एक तीन मंजिला बडे से मकान के एक छोटे स...