Monday, March 18, 2013

कार्टून कुछ बोलता है- रंगभेद !


7 comments:

  1. नाती-पोता नेहरू, कर्ता धर्ता *शेख |
    अब्दुल्ला के ब्याह में, दीवाना ले देख |

    दीवाना ले देख, मरे कश्मीरी पंडित |
    निर्बल बिन हथियार, जवानो के सिर खंडित |

    डंडे से गर मोह, संघ को भेजो पाती |
    वह *मोहन तैयार, करो रविकर तैनाती ||
    *भागवत

    ReplyDelete
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति मंगलवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  3. बिल्कुल सटीक व्यंग है.

    रामराम.

    ReplyDelete
  4. सटीक कटाक्ष किया है !!

    ReplyDelete
  5. ऐसा हो जाये तो फिर बात ही क्या है.

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सटीक व्यंग,आभार.

    ReplyDelete

लघुकथा- क्षीण संप्रत्यय !

अकेली महिला और उसके साथ उसके दो नाबालिग बेटे, अरुण और वरुण। मेरे मुहल्ले मे मेरे घर से कुछ ही दूरी पर एक तीन मंजिला बडे से मकान के एक छोटे स...