Thursday, March 21, 2013

कार्टून कुछ बोलता है- कैसे नहीं चलेगी सरकार ?


7 comments:

  1. यही दर तो साथ देने पर मजबूर करता है ॥सब एक ही थैले के चट्टे बट्टे हैं ।

    ReplyDelete
  2. मैं तुझे डराऊं, तू मुझे डराये
    जिसकी बारी आये, दांव दे जाये
    ईमानदार राजनेता हैं हम तो ताऊ
    कभी अपनों को दगा नही देते भाऊ

    रामराम

    ReplyDelete
  3. छापा करुना पर पड़ा, ममता थी निर्दोष ।
    महाठगिन माया ठगी, हृदय मुलायम तोष ।

    हृदय मुलायम तोष, बड़ा मोहन मन सच्चा ।
    छोड़ हमें जो जाय, उड़ा देते परखच्चा ।

    सी बी आय संकेत, खो रही सत्ता आपा ।
    टला बहुत स्टालिन, आज पड़ जाता छापा ॥

    ReplyDelete
  4. लोग पहले से समझते ही नहीं हैं..

    ReplyDelete
  5. बढ़िया है ,महोदय....
    साभार...

    ReplyDelete
  6. ये तो होना ही था ...
    सी बी आई मेरी जेब में जो रहती है ...

    ReplyDelete

संशय!

इतना तो न बहक पप्पू ,  बहरे ख़फ़ीफ़ की बहर बनकर, ४ जून कहीं बरपा न दें तुझपे,  नादानियां तेरी, कहर  बनकर।