Saturday, March 30, 2013

कहने लगा चाँद जबसे










कहने लगा चाँद जबसे, चितचोर हमको,
शरमाते हुए देखते हैं,सारे चकोर हमको।

कभी लगता नहीं था कहीं,जो उदास मन,  
अब  रमने को कहता है, चहुँ ओर हमको। 

बदरी ये चाहत की जबसे, छाई है मन में,  
तेरी प्रीत की बारिश,करे सराबोर हमको।  

परेशां होने न देता,अब गम के दरिया में, 
तेरी मौजों का दिल नशीं, ये शोर हमको। 

लिखने लगे है तबसे खुद तकदीर अपनी,  
मिला महबूब का जबसे, यह ठौर हमको।  

अब डगमगा न पाएगी, कभी प्रेम पथ से, 
काली अंधियारी घटा भी, घनघोर हमको। 

तेरी कश्ती से, है दरिया के हमें पार जाना, 
कहे 'परचेत' मतवाला ये, मनमोर हमको।   

13 comments:

  1. वाह वाह परचेत साहब.. वाह.

    ReplyDelete
  2. वाह वाह...गजब की रचना. बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया।

    ReplyDelete
  4. चाहत की ये बदरी,जबसे छाई है मन में,
    तेरी प्रीत की बारिश,करे सराबोर हमको। ...

    वाह या बात है गौदियाल साहब ... उनकी प्रीत की बारिश में तो उम्र भर नहाने का मन करता है ...

    ReplyDelete
  5. हाय उफ़्फ़ ..कतल कर डाला जी कतल । एकदम कमाल है

    ReplyDelete
  6. मूर्खता दिवस की मंगलकामनाओं के आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल सोमवार (01-04-2013) के चर्चा मंच-1181 पर भी होगी!
    सूचनार्थ ...सादर..!

    ReplyDelete
  7. Godiyal jee aap to cha gaye. Behad khoobsurat gazal.

    ReplyDelete