Wednesday, January 16, 2013

तोबा-तोबा !











निराले तुम्हारे अंदाज 
हर रंज-ओ-गम, सिकवे-गिले में,
शायद यही वजह है 
जो वालिद ने तुम्हारे, 
कैद करके रखा तुमको किले में।   

ताज्जुब की बात है कि 

फिर भी दिल तुम्हारा चोरी हो गया,
मुझे  ऐसे हुआ मालूम कि 
शक की वीनाः पर पुलिस ने 
मेरे घर छापा डाला इसी सिलसिले में।।   


10 comments:

  1. बहुत सुंदर उम्दा अभिव्यक्ति ,,,

    recent post: मातृभूमि,

    ReplyDelete
  2. वाह .. क्या बात है ...
    छापा मारने की दिल उनका चोरी हो गया ...

    ReplyDelete
  3. चोरी गयी चीज मिली या नहीं..

    ReplyDelete
  4. क्षमा सहित -

    इत्तिफाक से मिल गयी, नंगा झोरी होय ।

    फोटो-कॉपी से मिला, यो ही छोरी होय ।

    यो ही छोरी होय, रखे दिल-बड़ी तिजोरी ।

    रही रोज अब धोय, पुलिस ने पकड़ी चोरी ।

    यह अंधड़ घनघोर, झरे अब अश्रु आँख से ।

    बसी कहाँ प्रियतमा, डरूं इस इत्तिफाक से ।।

    ReplyDelete
  5. @भारतीय नागरिक - Indian Citizen:
    तलाश जारी है............ :)

    ReplyDelete
  6. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    ReplyDelete
  7. नमस्ते जी
    यथार्थ की अभिब्यक्ति बहुत ही अच्छी सटीक कबिता ने बयां किया है,

    ReplyDelete
  8. वाह, दिल आया भी तो किस पर।

    ReplyDelete
  9. वाह...क्‍या बात है

    ReplyDelete

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना !

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना ! (New concept of 'seating arrangement' in Metro coaches ! ) ...